श्रीलंका को हराकर आज वापसी करने उतरेगी टीम इंडिया


रांची । टीम इंडिया आज यहां होने वाले दूसरे टी-२० क्रिकेट मैच में श्रीलंका पर जीत के इरादे से उतरेगी। पहले मैच में मिली हार से सबक लेते हुए टीम इंडिया यहां कोई गलती नहीं करना चाहेगी। कप्तान महेंद्र िंसह धोनी यहां अपने घरेलू मैदान पर बेहतर प्रदर्शन के साथ ही जीत दर्ज करना चाहेंगे। रांची में पहली बार कोई टी२० अंतरराष्ट्रीय मैच हो रहा है, ऐसे में यहां दर्शकों की भारी भीड़ रहेगी। आंकड़ों पर नजर डालें तो भारत ने यहां अपने तीनों एकदिवसीय मैच जीते हैं। वहीं दिनेश चांदीमल की श्रीलंकाई टीम पहले मैच में जीत से उत्साहित है ओर अब एक और जीत के साथ श्रृंखला पर कब्जा करना चाहेगी। पहले मैच में उसके गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया जिसे वह दोहराना चाहेगी। मेहमान टीम में कई अनुभवहीन खिलाड़ी हैं और उसके पास खोने के लिये कुछ नहीं है इसलिए उसपर कोई दबाव नीं होगा। श्रीलंका के तेज गेंदबाजों कासुन रंजीता , दुष्मंता चामीरा और दासुन सनाका ने पहले मैच में पिच का पूरा फायदा उठाया पर अब रांची में उनकी वास्तविक परीक्षा होगी क्योंकि भारतीय बल्लेबाज लय में आने का जोरदार प्रयास करेंगे। वहीं पुणे की अपेक्षा रांची की पिच काफी धीमी मानी जाती है, ऐसे में यहां बड़े स्कोर बनेंगे।
इससे पहले धोनी ने पुणे की पिच को इंग्लैंड जैसी बताते हुए कहा था कि टी-२० में ऐसे विकेट नहीं होने चाहिये। धोनी ने हार के लिए उछाल भरे विकेट को दोष दिया था। इसके अलावा श्रीलंकाई कप्तान ने भी माना था कि विकेट काफी तेज था।
पहले मैच में रोहित शर्मा, शिखर धवन, अिंजक्य रहाणे दहाई दो अंकों तक भी नहीं पहुंच सके तो धोनी भी दो रन बनाकर आउट हुए। निचले क्रम में नए खिलाड़ी र्हािदक पांडया और अनुभवी आलराउंडर रवींद्र जडेजा भी टिक नहीं पाये।
भारतीय टीम के लिये पुणे के मैच में मिली हार ने मध्य और निचले क्रम की कमजोरियों को उजागर कर दिया है और एशिया और फिर विश्वकप से पहले उसे अपनी समीक्षा का अच्छा मौका मिला है।
भारत की इसी टीम को आगामी बड़े टूर्नामेंटों में खेलना है और तैयारी के लिहाज से जरूरी है कि प्रत्येक खिलाड़ी अपनी भूमिका को निभा सके। सलामी बल्लेबाज के तौर पर भारत के पास रोहित, धवन और रहाणे जैसे अच्छे खिलाड़ी हैं पर मध्य और निचले क्रम को सुधार करना होगा।
टीम में वापसी कर रहे अनुभवी आलराउंडर युवराज िंसह को अपने चयन को सही साबित करना होगा। इसके अलावा रैना को भी जिम्मेदार से खेलना होगा। इसके अलावा भारतीय गेंदबाजों को भी बेहतर प्रदर्शन करना होगा। पहले मैच में वह प्रभावी प्रदर्शन नहीं कर पाये थे।
टीमें : भारत : एम एस धोनी ( कप्तान ), शिखर धवन, रोहित शर्मा, अिंजक्य रहाणे, सुरेश रैना, युवराज िंसह, रिंवद्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, जसप्रीत बुमरा, पवन नेगी, आशीष नेहरा, मनीष पांडे, र्हािदक पांडया, भुवनेश्वर कुमार और हरभजन िंसह।
श्रीलंका : दिनेश चांदीमल ( कप्तान ), दुष्मंता चामीरा, निरोशन डिकवेला, तिलकरत्ने दिलशान, बिनुरा फर्नांडो, दिलहारा फर्नांडो, असेला गुणरत्ने, धनुष्का गुणतिलका, चमारा कापूगेदारा, तिसारा परेरा, सीकुगे प्रसन्ना, कासुन रजीता, सचित्रा सेनानायके, दासुन सनाका, मििंलदा सिरिवर्धना, जाफरी वेंडरसे.