विश्वकप : चौथी जीत के साथ टीम इंडिया क्र्वाटर फाइनल में


० वेस्टइंडीज टीम को ४ विकेट से हराया
० शमी (३५रन/३विकेट) बने मैन ऑफ द मैच
पर्थ। होली के दिन टीम इंडिया ने विश्वकप क्रिकेट में लगातर चौथी जीत दर्ज की है। भारतीय टीम की इस जीत में तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और कप्तान महेंद्र िंसह धोनी की अहम भूमिका रही। शमी ने शानदार गेंदबाजी की जबकि धोनी ने अपने को एक बार फिर भारत का सर्वश्रेष्ठ कप्तान साबित किया है। भारत ने ग्रुप बी के कम स्कोर वाले मैच में वेस्टइंडीज टीम को चार विकेट से हराकर धमाकेदार तरीके से क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। पर्थ के वाका मैदान की उछाल भरी पिच पर शुक्रवार को इंडीज कप्तान जैसन होल्डर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की।
वेस्टइंडीज के बल्लेबाज भारतीय गेंदबाजों के सामने टिक नहीं पाये और उसकी पूरी टीम ४४.२ ओवर में १८२ रन पर सिमट गयी। कप्तान जेसन होल्डर के (५७) रनों को छोड़कर कोई भी इंडीज बल्लेबाज टिक नहीं पाया। स्टार खिलाड़ी क्रिस गेल ३५ रन ही बना पाये। इस प्रकार जीत के लिए मिले १८३ रनों के लक्ष्य को भारत ने ३९.१ ओवरों में छह विकेट पर १८५ रन बनाकर हासिल कर लिया। इस मैच में छोटे लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही। शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों के लिये तेजी और उछाल से सामंजस्य बिठाना आसान नहीं रहा। जब स्कोर १०७ रन था तब आधी टीम पवेलियन लौट गई थी लेकिन धोनी ने एक छोर संभाले रखा और ५६ गेंद पर ४५ रन बनाये और विश्व कप में टीम का विजय अभियान बरकरार रखा। भारत ने ३९.१ ओवर में ६ विकेट पर १८५ रन बनाये।
टीम इंडिया ग्रुप बी से क्वार्टर फाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बन गई है। उसके ४ मैच में ८ अंक हो गये है। उसे अब आयरलैंड और जिम्बाब्वे जैसी कमजोर टीमों से खेलना है। वहीं दूसरी तरफ वेस्टइंडीज के लिये अंतिम आठ में पहुंचने की राह मुाqश्कल हो गयी है। उसे अब यूएई के खिलाफ अपने अंतिम लीग मैच में बडे अंतर से जीत दर्ज करने के साथ बाकी मैचों में अनुवूâल परिणाम की भी दुआ करनी होगी। भारत के लिये जीत की नींव गेंदबाजों ने रखी। शमी ने (८ ओवर में ३५ रन देकर तीन विकेट) ने बेहतरीन गेंदबाजी की तथा शुरु से अपनी तेजी और उछाल से बल्लेबाजों को परेशान किया। उनका पहला ओवर घातक था। उन्होंने ड्वेन ाqस्मथ (छह) और विस्फोटक क्रिस गेल (२१) को आउट करके भारतीय टीम का पलडा भारी कर दिया।
शमी को उमेश यादव (दस ओवर में ४२ रन देकर दो विकेट), मोहित शर्मा (३५ रन देकर एक विकेट), रविचंद्रन अश्विन (३८ रन देकर एक विकेट) और रिंवद्र जडेजा (२७ रन देकर दो विकेट) का अच्छा साथ मिला। वेस्टइंडीज इनके सामने दूसरे दर्जे की टीम लग रही थी।
वेस्टइंडीज के लिये इस मैच में सकारात्मक पहलू यही रहा कि उसने कम स्कोर होने के बावजूद भारत को पूरी तरह से एकतरफा जीत दर्ज नहीं करने दी। भारतीय सलामी बल्लेबाज इस बार अच्छी शुरुआत नहीं दे पाये और सातवें ओवर तक शिखर धवन (नौ) और रोहित शर्मा (सात) दोनों पवेलियन लौट गये थे।
विश्व कप में फार्म में वापसी करने वाले धवन आउट होने वाले पहले बल्लेबाज थे। उन्होंने जेरोम टेलर (३३ रन देकर दो विकेट) की कोण लेती गेंद पर बल्ला भिडा दिया और डेरेन सैमी ने दूसरी ाqस्लप में उसे वैâच कर दिया। टेलर ने रोहित को भी खूबसूरत गेंद पर पवेलियन भेजा जो उनके बल्ले का किनारा लेकर विकेटकीपर दिनेश रामदीन के हाथों में पहुंच गई।
विराट कोहली (३३) और अंजिक्य रहाणे (१४) ने अगले आठ ओवर तक विकेट नहीं गिरने दिया।
आंद्रे रसेल (४३ रन देकर दो विकेट) जब आक्रमण पर आये तो उनका मकसद साफ दिख रहा था. अधिक से अधिक शार्ट पिच गेंद करना. उनकी ऐसी ही गेंद पर कोहली ने पुल किया लेकिन वह उनके बल्ले का उपरी किनारा लेकर लांग लेग पर खडे मर्लोन सैमुअल्स के पास चली गयी। रहाणे को केमार रोच (४४ रन देकर एक विकेट) ने आउट किया। रहाणे ने रेफरल लिया लेकिन तीसरे अंपायर ने मैदानी अंपायर का पैâसला बने रहने दिया।
सुरेश रैना ने २२ रन बनाये लेकिन उन्हें शुरु से शार्ट पिच गेंदों से जूझना पडा लेकिन उन्होंने ड्वेन ाqस्मथ (२२ रन देकर एक विकेट) की साधारण सी दिख रही गेंद पर विकेट के पीछे वैâच दिया। जडेजा (१३) ने भी शार्ट पिच गेंद पर गलत टाइिंमग से पुल करके विकेट गंवाया।
इसके बाद होल्डर की कप्तानी में अपरिपक्वता साफ दिखी। उन्होंने भारत पर दबाव बनाने के बजाय पांचवें गेंदबाज की कमी पूरी करने पर अधिक ध्यान दिया जिससे धोनी और अश्विन (नाबाद १६) का काम आसान हो गया। जब बहुत कम रन बचे थे तब भी उन्होंने अपने तेज गेंदबाजों को गेंद नहीं सौंपी। धौनी ने विजयी चौका जमाया।
इससे पहले भारत ने खतरनाक गेल को आउट करने के लिये अपनी रणनीति पर अच्छी तरह से अमल किया। गेल ने अतिरिक्त उछाल वाली दो गेंदों पर शॉट लगाये लेकिन थर्ड मैन में उन्हें वैâच नहीं किया जा सका। उन्होंने १८वीं गेंद में अपना पहला चौका लगाया।गेल ने शमी पर मिड आन पर भी चौका जडा और यादव की गेंद डीप मिडविकेट पर छक्के के लिये भेजी।
अपने सलामी जोडीदार ाqस्मथ और मर्लोन सैमुअल्स (२) के आउट होने के बाद गेल ने कुछ जल्दबाजी दिखायी। ऐसे में धोनी ने डीप फाइन लेग के क्षेत्ररक्षक को डीप स्क्वायर लेग पर बुला दिया। उनकी यह रणनीति कारगर साबित हुई क्योंकि तब गेल और शमी के बीच अच्छा मुकाबला देखने को मिल रहा था।
मैन ऑफ द मैच शमी की एक शार्ट लेंथ गेंद को गेल ने पुल करना चाहा लेकिन वह बल्ले का उपरी किनारा लेकर हवा में लहरा गयी और मोहित ने डीप स्क्वायर लेग में वैâच करने में कोई गलती नहीं का। गेल के तीसरे बल्लेबाज के रुप में आउट होने से पहले ाqस्मथ को शमी ने अतिरिक्त उछाल लेती गेंद पर विकेट के पीछे धौनी के हाथों वैâच कराया। जब गेल को जीवनदान मिला तब सैमुअल्स का रन के लिये दौडना उनके लिये घातक साबित हुआ और वह रन आउट हो गये।
यादव ने दिनेश रामदीन (शून्य) को पुâललेंथ गेंद पर बोल्ड किया जिससे स्कोर चार विकेट पर ३५ रन हो गया। बायें हाथ के बल्लेबाज जोनाथन कार्टर (२१) और लेंडल सिमन्स (नौ) ने पांचवें विकेट के लिये ३२ रन जोडे. मोहित ने सिमन्स को डीप फाइन लेग पर यादव के हाथों वैâच कराकर यह साझेदारी तोडी।
अश्विन ने कार्टर को स्वीप शॉट खेलने का सबक दिया जबकि आंद्रे रसेल (आठ) ने मोहित पर छक्का जडने के बाद डीप मिडविकेट पर विराट को वैâच थमाया। युवा होल्डर ने जीजान लगायी और लगातार दूसरे मैच में अर्धशतक जडा. सैमी (२६) के आउट होने से वेस्टइंडीज का स्कोर आठ विकेट पर १२४ रन पर था जिसके बाद होल्डर ने टेलर (११) के साथ नौवें विकेट के लिये ५१ रन जोडे। होल्डर ने अपनी ६४ गेंद की पारी में चार चौके और तीन छक्के लगाये।