युवाओं का सलाहकार बनना मजेदार अनुभव : द्रविड़


मुंबई । भारतीय अंडर १९ और भारत ए क्रिकेट टीम के कोच राहुल द्रविड़ का कहना है कि युवा खिलाड़ियों का मेंटर (सलाहकार) बनना `रोमांचक’ और `मजेदार’ अनुभव है। द्रविड़ ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा, “मेरे लिए सलाहकार बनना या अंडर १९ टीम को कोिंचग देना युवा खिलाड़ियों की उनकी उस यात्रा में सहायता करना है जो मैंने भी की थी। यह शानदार मौका है। यह मुझे मेरे अनुभव और खेल में २० साल से अधिक समय तक सीखी चीजों को बांटने का मौका देता है।”
कार्यक्रम में विभिन्न खेलों के युवा खिलाड़ियों को द्रविड़ द्वारा बढ़ावा दिया जाता है और उन्हें ओलंपिक के लिए निखारा जाता है। द्रविड़ फिलहाल भारत की अंडर १९ और ए दोनों टीमों के कोच हैं।
बांग्लादेश में आगामी अंडर १९ विश्व कप के बारे में द्रविड़ ने कहा, “मुझे लगता है कि हमेशा से अच्छी प्रतिभा मौजूद रही है। यह जरूरी नहीं कि इसका संबंध परिणामों से हो। वे खिलाड़ी के रूप में निखर रहे हैं और भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे और उम्मीद करते हैं कि भविष्य में देश को बेहतर परिणाम देंगे।”