महामुकाबला- भारत को दूसरा झटका, टीम इंडिया 200/2


० रोहित (१५), धवन (७३) रन बनाकर पवेलियन लौटे
० विराट (८४), रैना (१८) रन बनाकर खेल रहे
एडिलेड । टीम इंडिया ने एडिलेड ओवल स्टेडियम पर पाकिस्तान के खिलाफ आईसीसी क्रिकेट विश्वकप के अपने पहले मुकाबले में दूसरा विकट गवां दिया है। शिखर धवन ७३ रन की बेहतरीन पारी खेलकर रन आउट हो गए। शिखर धवन ने ७६ गेंदों में १ छक्का और ७ चौके लगाए। टीम के उप-कप्तान विराट कोहली ७१ रन बनाकर खेल रहे हैं जबकि सुरेश रैना अभी क्रीज पर उतरे हैं। विराट ने ७८ गेंदों में ५ चौके जड़े। समाचार लिखे जाने तक भारत ने २ विकेट के नुकसान पर ३७ ओवर में २०४ रन बना चुके है। भारत ने अपना पहला विकेट रोहित शर्मा के रूप में गवांया। रोहित १५ रन बनाकर सोहेल खान की गेंद पर वैâच आउट हुए। रोहित ने अपनी पारी में २० गेदों में चार चौके लगाए। इससे पहले भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का पैâसला किया था।
० पाक से हमेशा जीता भारत
चोटों और प्रदर्शन के निरंतरता की कमी से जूझ रहा भारत खिताब के बचाव के अपने अभियान की शुरुआत चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ करेगा तो वह इतिहास से प्रेरणा लेने की कोशिश करेगा। सिडनी में १९९२ के विश्व कप में दोनों टीमों के बीच पहली बार भिड़ंत के बाद से भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ ५० ओवर के विश्वकप में सभी ५ मैच जीते हैं। महेंद्र िंसह धौनी की अगुआई वाली भारतीय टीम अब सुपर संडे को अपना दबदबा बरकरार रखने के इरादे से उतरेगी। इस मैच के दौरान स्टेडियम के खचाखच भरा रहने की उम्मीद है और लगभग २०,००० भारतीय पहले ही विशेष रूप से इस मैच के लिए एडिलेड पहुंचे। दोनों ही टीमें इस मैच को जीतकर टूर्नामेंट की सकारात्मक शुरुआत करने को लेकर बेताब हैं। ऑस्ट्रेलिया की र्गिमयों में लचर प्रदर्शन के बाद भारतीय टीम पहले ही मैच में शिकस्त झेलने की ाqस्थति में नहीं है और वह भी पाकिस्तान के हाथों। उप कप्तान और अहम बल्लेबाज विराट कोहली के बड़ा स्कोर बनाने में नाकाम रहना, अभ्यास मैच में अफगानिस्तान जैसी टीम के खिलाफ भी १० विकेट चटकाने में नाकाम रहने वाला गेंदबाजी आक्रमण और कुछ अहम खिलाड़ियों की फिटनेस धौनी के लिए िंचता का कारण हैं। पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय टीम हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करती है फिर भले ही वह खराब दौर से ही क्यों नहीं गुजर रही हो। वर्ष १९९२ में ऑस्ट्रेलिया और १९९९ में इंग्लैंड में विश्व कप में अधिकांश समय खराब प्रदर्शन करने के बावजूद भारत पाकिस्तान को आसानी से हराने में सफल रहा था।
भारत को हमेशा से ही सचिन तेंदुलकर, अजय जडेजा या वेंकटेश प्रसाद के रूप में ऐसा एक खिलाड़ी मिलता रहा है जो विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ टीम की जीत का सूत्रधार बनता रहा है। मौजूदा टीम में कोहली, अिंजक्य रहाणे और कप्तान धौनी अपने अकेले दम पर मैच का रूख बदलने की क्षमता रखते हैं। धौनी आंकड़ों में अधिक विश्वास नहीं रखते लेकिन विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ ५-० का रिकॉर्ड टीम को सकारात्मक ऊर्जा देगा।

टीमें –
भारत-: महेंद्र िंसह धौनी (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, अिंजक्य रहाणे, विराट कोहली, अंबाती रायुडू, सुरेश रैना, स्टुअर्ट बिन्नी, भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव, मोहित शर्मा, रिंवद्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, अक्षर पटेल और मोहम्मद शमी।

पाकिस्तान-: मिसबाह उल हक (कप्तान), शाहिद अफरीदी, अहमद शहजाद, नासिर जमशेद, हैरिस सोहेल, शोएब मकसूद, अहसान आदिल, यूनिस खान, उमर अकमल, मोहम्मद इरफान, वहाब रियाज, यासिर शाह, सोहेल खान, सरफराज अहमद और राहत अली।

मैदानी अम्पायर : इयान गोल्ड (इंग्लैंड) तथा रिचर्ड वैâटलबरो (इंग्लैंड)
टीवी अम्पायर : स्टीव डेविस (ऑस्ट्रेलिया)
मैच रैफरी : रंजन मदुगले (श्रीलंका)
रिजर्व अम्पायर : माइकल गफ (इंग्लैंड)