पाकिस्तान और इंग्लैंड बोर्ड मेरे साथ भेदभाव कर रहा : कनेरिया


कराची । पाकिस्तान के प्रतिबंधित लेग ाqस्पनर दानिश कानेरिया ने पाकिस्तान और इंग्लैंड के क्रिकेट बोर्ड पर हमला बोला है। कनेरिया ने कहा है इंग्लैंड के तेज गेंदबाज र्मिवन वेस्टफील्ड को स्पॉट फििंक्सग मामले में प्रतिबंध समाप्त हुए बिना ही निचले दर्जे का क्रिकेट खेलने की अनुमति मिल गई है जबकि मुझे खेलने से रोका जा रहा है। इससे साफ है कि मुझसे भेदभाव किया जा रहा है।
गौरतलब है कि ईसीबी की भ्रष्टाचार निरोधक पंचाट ने कानेरिया पर २०१२ में आजीवन प्रतिबंध लगाया था। उसी साल वेस्टफील्ड को जेल की सजा भुगतनी पड़ी थी और उन्हें पेशेवर क्रिकेट खेलने से पांच साल और क्लब क्रिकेट खेलने से तीन साल के लिये प्रतिबंधित किया गया था। इन दोनों को इांqग्लश काउंटी चैंपियनशिप में एसेक्स की तरफ से खेलते हुए प्रतिबंधित किया गया था। वेस्टफील्ड ने स्वीकार किया था कि उन्होंने सितंबर २००९ में एसेक्स और डरहम के बीच ४० ओवर के प्रो मैच में खराब प्रदर्शन करने के लिये ६००० पौंड लिये थे।
पाक स्पिनर ने कहा कि यह मेरे साथ अलग व्यवहार किया जा रहा है जबकि मैंने किसी तरह के स्पाट फििंक्सग की बात स्वीकार नहीं की और मेरे खिलाफ ठोस सबूत भी नहीं मिले। उन्होंने कभी मुझे ट्रायल पर भी नहीं रखा। लेकिन जिस व्यक्ति ने पैसा लेने और स्पाट फििंक्सग की बात स्वीकार की और जिसने शपथ में अपने बयान बदले उसको राहत दी जा रही है। कानेरिया ने कहा कि ईसीबी ने मुझे वेस्टफील्ड के बयान के आधार पर प्रतिबंधित किया जिसने सुनवाई के दौरान अपने बयान बदले जबकि वे मेरी बात सुनने और साक्ष्यों की बात करने के लिये तैयार नहीं थे। मुझे केवल एक व्यक्ति के बयान पर प्रतिबंधित कर दिया गया।