दक्षिण एशियाई खेलों का सफल समापन, अब नेपाल में मिलेंगे


– भारत पहले स्थान पर रहा
गुवाहाटा । १२वें दक्षिण एशियाई खेलों का भव्य समापन हो गया। वेंâद्रीय खेलमंत्री और सैग खेलों की आयोजन समिति के अध्यक्ष सर्बानंद सोनोवाल ने खचाखच भरे इंदिरा गांधी एथलेटिक स्टेडियम में खेलों के समापन की घोषणा की।
समापन समारोह में असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई, असम और मेघालय के खेलमंत्री, अगले सैग खेलों के मेजबान नेपाल और बंगलादेश के खेलमंत्री, भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष एन रामचंद्रन और महासचिव राजीव मेहता मौजूद थे। समापन समारोह में खिलाड़ी २०१९ में नेपाल के काठमांडू में होने वाले १३वें दक्षिण एशियाई खेलों में फिर से एकत्र होने की इच्छा के साथ यहां से विदा हुए।
इस बार भारत ने इन खेलों में १८८ स्वर्ण सहित कुल ३०८ पदक जीते और वह पहले स्थान पर रहा। दूसर स्थान पर श्रीलंका व तीसरे पर पाकिस्तान रहा। इन खेलों में ४५०० खिलाड्यिों और अधिकारियों ने हिस्सा लिया। आईओए के अध्यक्ष रामचंद्रन ने सोनोवाल से खेलों को समाप्त घोषित करने का आग्रह किया और सोनोवाल ने कहा, मैं इन खेलों के समापन की घोषणा करता हूं। सोनोवाल ने फिर सैग ध्वज आईओए के अध्यक्ष रामचंद्रन को सौंपा जिन्होंने फिर यह ध्वज नेपाल ओलंपिक संघ के अध्यक्ष जे आर श्रेष्ठ और खेल मंत्री सत्य नारायण मंडल को सौंपा। श्रेष्ठ ने भारत को १२वें खेलों की सफल मेजबानी के लिए बधाई दी।
गिरजा/१७फरवरी/१२ः१५