खेल मंत्रालय ने की साइना के नाम की सिफारिश


– मैंने कभी प्रतिाqष्ठत पुरस्कार की मांग नहीं की : साइना
नई दिल्ली । शीर्ष महिला बैडिंमटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने कहा है कि मैंने कभी भी पुरस्कार की मांग नहीं की और मैं खेल खेल मंत्रालय के पैâसले का सम्मान करती हूं। नेहवाल ने पद्म भूषण पुरस्कार के लिए हुए विवादों को निराशाजनक बताते हुए कहा कि नामांकन खारिज करने के पीछे का कारण जाने मैंने जो प्रयास किये थे उसको अनावश्क रूप से बढ़ा दिया गया। मैं केवल इतना जानना चाहती थी कि मेरे नाम पर विचार क्यों नहीं किया गया। वहीं इसी बीच खेल मंत्रालय ने पद्म भूषण पुरस्कार के लिए गृह मंत्रालय को साइना के नाम की सिफारिज कर दी है। अपना बचाव करते हुए खेल मंत्रालय ने कहा कि बैडमिंटन संघ ने साइना का नाम नहीं भेजा था इसलिए इस मामले में गलती संघ की है।
साइना ने कहा, मीडिया ने इसे जिस तरह पेश किया कि मैंने पुरस्कार की मांग की और नाराजगी जताई वह ठीक नहीं कहा जा सकता। मैं पुरस्कार मांगने वाली कौन होती हूं। मैं एक खिलाड़ी हूं। मैं अपने देश के लिए खेलती हूं। उन्होंने कहा, मेरा काम देश के लिए खेलना और अधिक से अधिक पदक जीतना है। मुझे नहीं पता कि मुझे इस विवाद में क्यों घसीटा गया। इससे पहले खेल मंत्रालय ने विशेष मामले के तहत दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार के नाम की सिफारिश पुरस्कार के लिए गृह मंत्रालय को की थी।
साइना ने कहा कि हम दोनो ही हरियाणा से हैं और अगर पहलवान सुशील को पुरस्कार मिलेगा तो मुझे खुशी ही होगी। इस बीच खेल मंत्रालय ने साइना के नाम की सिफारिश पदम भूषण के लिए गृह मंत्रालय को करने का पैâसला करते हुए कहा कि उसे भारतीय बैडिंमटन संघ से समय सीमा के भीतर नामांकन नहीं मिला था। इसमें बैडमिंटन संघ की गलती थी।