कश्मीर हिंसा भुनाने की फ़िराक में पाक


नई दिल्लीहिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद से जल रहे कश्मीर पर पाकिस्तान अपनी रोटियां सेकने की कोशिश करता नजर आ रहा है. दरअसल, पाकिस्तानी विदेश सचिव ने मंगलवार को सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य देशों से मुलाक़ात कर कश्मीर में भड़की हिंसा पर चर्चा की. पडोसी देश के विदेश सचिव ने इस हिंसा को मानवाधिकारों का हनन बताया.

चीन, रूस, ब्रिटेन, अमेरिका और फ्रांस के राजदूतों से मुलाकात कर पाकिस्तानी विदेश सचिवने कश्मीर के मौजूदा हालात की शिकायत की है. उन्होंने आरोप लगाया है कि भारतीय सुरक्षा बल घाटी में मूलभूत मानवाधिकारों का हनन कर रहे हैं और उनके द्वारा नागरिकों की हत्या की जा रही है.

इसके पहले पाकिस्तानी विदेश सचिव ने भारतीय उच्चायुक्त से मुलाक़ात की थी और कश्मीर की हो रही हिंसक घटनाओं पर चिंता जाहिर की थी. उनकी यह मुकालात पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के उस बयान के बाद हुई थी जिसमें उन्होंने बुरहान वानी की मौत को अफ़सोसजनक बताया था.

हालांकि भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने बीते दिन ही दो टूक कहा था कि हमने भारतीय राज्य जम्मू-कश्मीर में स्थिति पर पाकिस्तान की तरफ से आए बयान देखे हैं. इनसे आतंकवाद से पाकिस्तान के लगातार जुड़ाव तथा उसके द्वारा इसे राज्य की नीति के औजार के रूप में इस्तेमाल किए जाने का पता चलता है. पाकिस्तान को सलाह दी जाती है कि वह अपने पड़ोसियों के आंतरिक मामलों में दखल देने से परहेज करे