आईपीएल और बिग बैश से खत्म हो रहा टेस्ट क्रिकेट : फिका


मेलबर्न। पेâडरेशन ऑफ इंटरनेशनल क्रिकेटर्स एसोसिएशन (फिका) के सीईओ टोनी आइरिश ने कहा है कि आजकल टी-२० और सीमित ओवरों के बढ़ते मुकाबलों से पांच दिन के खेल के प्रति लोगों का रूझान तेजी से कम हो रहा है और अगर यही हाल रहा तो भविष्य में टेस्ट क्रिकेट समाप्त हो जाएगा। टी२० क्रिकेट मैच की बढ़ती लोकप्रियता और इसके इसके प्रति दुनिया भर के बेहतरीन खिलाड़ियों का बढ़ता आकर्षण टेस्ट क्रिकेट पर विपरीत प्रभाव डाल रहा है। हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट देखने वालों की तादाद तेजी से घटी है। इससे टेस्ट का भविष्य खतरे में लग रहा है। आइरिश ने आगाह किया कि आईपीएल और बिग बैश जैसे लुभावने टी२० लीग टेस्ट क्रिकेट के भविष्य को खतरे में डाल रहे हैं और यदि आईसीसी ने तुरंत कोई कदम नहीं उठाये तो लंबी अवधि का प्रारूप समाप्त हो सकता है।
आइरिश का मानना है कि यदि आईसीसी ने इस प्रारूप में बड़े बदलाव नहीं किए तो द्विपक्षीय टेस्ट क्रिकेट खत्म हो जाएगा। आईसीसी सीईओ डेव रिचर्डसन ने २०१९ तक किसी तरह के बदलाव की संभावना से इनकार किया था। तब वर्तमान का भविष्य का दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) समाप्त हो जाएगा लेकिन आइरिश का मानना है कि तब तक बहुत देर हो जाएगी। उन्होंने कहा, यदि हम २०१९ तक इंतजार करते हैं तो विश्व में द्विपक्षीय क्रिकेट खतरे में पड़ जाएगा।
आइरिश ने वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों जैसे क्रिस गेल और ड्वेन ब्रावो का उदाहरण दिया जो राष्ट्रीय टीम की तरफ से खेलने के बजाय प्रâीलांस क्रिकेट खेलने को तरजीह दे रहे हैं। उन्होंने कहा, िंचता की बात यह है कि खिलाड़ी हमसे कह रहे हैं कि यदि चीजों में बदलाव नहीं हुआ तो वे अधिक से अधिक टी२० लीग में खेलना पसंद करेंगे। प्रत्येक देश के हिसाब से इसमें अंतर है। जिन देशों में खिलाड़ियों को अच्छा भुगतान मिलता है और टेस्ट क्रिकेट की ाqस्थति मजबूत है वहां टेस्ट क्रिकेट के लिए आत्मीयता बनी हुई है। आइरिश ने कहा,लेकिन कई देशों की ाqस्थति ऐसी नहीं है।