फार्म में वापसी के लिए दो हिट काफी : धोनी


बंगाल के युवा विकेटकीपर को दिए टिप्स
नई दिल्ली । भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफलतम कप्तानों में शुमार पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी की झारखंड की टीम में मौजूदगी युवा खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बन गई है। मौजूदा घरेलू सत्र में टीम में धोनी की मौजूदगी से झारखंड की टीम के खिलाड़ियों को काफी मदद मिली है और भारत के पूर्व कप्तान से बहुमूल्य सलाह लेने की बारी बंगाल के विकेटकीपर बल्लेबाज श्रीवत्स गोस्वामी की थी। गोस्वामी ने विजय हजारे ट्राफी मैच के इतर कहा कि “मुझे कभी धोनी भाई के साथ आमने सामने बात करने का मौका नहीं मिला था। ा मैच स्थगित होने के कारण मैं उनके पास गया और समय मांगा। वह तुरंत इसके लिए मान गए। मैंने उनसे अपने खेल पर 15 से 20 मिनट तक बात की। मैं उनका प्रशंसक था लेकिन आज मैं छात्र अधिक था।” भारत के पूर्व अंडर 19 कप्तान गोस्वामी ने बड़े मैचों से पहले मानसिक स्थिति, खराब फार्म और अन्य मुद्दों पर धोनी के साथ बात की।
बंगाल के युवा विकेटकीपर ने बताया कि ‘धोनी भाई ने कहा कि असल में किसी को नहीं पता कि खराब फार्म क्या है और खराब फार्म से उबरना जैसी कुछ चीज नहीं है। अधिकतर बल्लेबाजी करते हुए दो या तीन शाट संकेत दे देते हैं कि चीजें खिलाड़ी के लिए सही हो रही हैं।” विकेटकीपिंग के संदर्भ में गोस्वामी ने कहा, “उन्होंने मेरे से कहा कि अगर मैं इस स्तर पर खेल रहा हूं तो मुझे बेसिक्स के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने शीर्ष स्तर पर खिलाड़ी के मानसिक स्तर को लेकर अधिक बात की। उन्होंने कहा कि यह संभव नहीं है कि कोई खिलाड़ी बड़े मैच से पूर्व सारी चिंताओं को दूर कर दे लेकन महत्वपूर्ण यह है कि बाहरी बातों पर ध्यान कम दिया जाय।