मुर्शिदाबाद मतदान केंद्र में खलल डालने की कोशिश


पश्चिम बंगाल में हो रहे लोकसभा चुनाव के तीसरे फैज के मतदान में खलल डालने के लिए उपद्रवियों ने भरपूर कोशिश की है।

आपस में भिड़े कांग्रेस-टीएमसी समर्थक, एक वोटर की मौत

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में हो रहे लोकसभा चुनाव के तीसरे फैज के मतदान में खलल डालने के लिए उपद्रवियों ने भरपूर कोशिश की है। मंगलवार को मतदान के दौरान मुर्शिदाबाद के रानीनगर इलाके में उपद्रवियों ने मतदान केंद्र के पास देशी बम मारे और मतदाताओं को डराने का प्रयास किया। बंगाल में हुई हिंसा बढ़ती जा रही है, जिसमें एक मतदाता की मौत हो गई है। खबरों के मुताबिक, यहां मुर्शिदाबाद में कांग्रेस और टीएमसी समर्थकों के बीच भीषण झड़प हुई। जिसमें पोलिंग बूथ की लाइन में लगे एक वोटर की मौत हो गई है। कांग्रेस उम्मीदवार अबु हीना का दावा है कि जिस व्यक्ति की मौत हुई है, वह कांग्रेस का कार्यकर्ता है। कड़े सुरक्षा इंतजामों के बावजूद यहां पर मतदान को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है। सुबह 7 बजे जैसे मतदान शुरू हुआ तो वोटरों की लंबी लाइन देखने को मिली। लेकिन 10 बजे तक माहौल पूरी तरह से बदल गया और अचानक हिंसा बढ़ गई।

सबसे पहले मुर्शिदाबाद के डोमकाल इलाके में हिंसा हुई, जहां दो गुटों में भीषण झड़प हुई। इस दौरान तृणमूल कांग्रेस के 3 कार्यकर्ता बुरी तरह से घायल हुए। इसके बाद रानीनगर इलाके में बूथ नंबर 47-48 के पास भी कुछ उपद्रवियों ने देसी बम फेंके। इनका मकसद वोटरों को डरा कर वापस भगाना था, बम फेंक ये सभी भाग गए। ये उपद्रवी किसी राजनीतिक दल या गुट से थे, अभी इसका पता नहीं चल सका है। हालांकि, लगातार हिंसा की खबरों के बाद पोलिंग बूथों के आस-पास सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। रानीनगर के अलावा मालदा इलाके में भी हिंसा की खबरें हैं, यहां पर मालदा के छांछल इलाके में कुछ जगह बमबारी की गई। यहां पर बूथ नंबर 216 को निशाना बनाया गया। बता दें कि बंगाल में अभी तक हुए हर चरण के चुनाव में हिंसा की घटनाएं सामने आती रही हैं। भाजपा लगातार राज्य की ममता सरकार पर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाती रही है, वहीं टीएमसी ने भी अमित शाह पर पलटवार किया था।

– ईएमएस