अमृतसर हादसे वाली ‘खूनी ट्रेन’ को अटारी बॉर्डर पहुंचाया, कई डिब्बों में अब भी फंसे मानव अंग


अमृतसर हादसे में शामिल ट्रेन को भारत-पाक बॉर्डर के स्टेशन अटारी पहुंचा कर वहां के रेलवे यार्ड में खड़ा किया गया है।
Image : vaticannews.va/en

अमृतसर(ईएमएस)। अमृतसर में रावण दहन के दौरान हुए भीषण हादसे में शामिल ट्रेन को अब भारत-पाक बॉर्डर के स्टेशन अटारी पहुंचा दिया गया है। इस ट्रेन को यहां अटॉरी बॉर्डर पर रेलवे यार्ड में खड़ा किया गया है।

बताया जा रहा है कि इस ट्रेन के कई डिब्बों में अभी भी मानव अंग फंसे हुए हैं। लोगों के आक्रोश को देखते हुए इस ‘खूनी ट्रेन’ को अटारी बॉर्डर पहुंचाया गया है। बता दें कि अमृतसर का जोड़ा रेलवे फाटक शुक्रवार शाम रावण दहन के दौरान मौत का कब्रगाह बन गया। इस ट्रेन हादसे में 61 लोग मारे गए और करीब 72 लोग घायल हुए हैं।

बताया जा रहा है कि अभी यह ट्रेन जिस ट्रैक पर खड़ी है उस ट्रैक के जरिए कभी भारत-पाकिस्तान आपस में जुड़ते थे। हालांकि फिलहाल लंबे समय से यह ट्रैक बंद है। बताया जा रहा है कि भारत-पाकिस्तान के बंटवारे के समय भी इस ट्रैक पर काफी खून-खराबा हुआ था। ऐसे में इस ट्रेन के यहां पहुंचाए जाने के बाद पुरानी यादें ताजा हो गई हैं। शवों के ट्रेन से घिसटने के कारण ट्रैक खून से लाल हो गया है। वहीं सबूतों के मिटने के डर से ट्रेन की अभी तक सफाई नहीं की गई है।

ट्रेन के इंजन में खून से सने इंसानी अंग फंसे हुए हैं, जिसकी वजह से यह ट्रैक खून से लाल हो गया है। हालांकि कुछ गैंगमैन ट्रैक की सफाई कर रहे हैं। इस मामले में ट्रेन के ड्राइवर को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई है। ट्रेन के ड्राइवर ने पूछताछ के दौरान बताया कि सिग्नल ग्रीन था और इस वजह से उन्हें अंदाजा नहीं था कि पटरी पर इतने लोग खड़े हैं। रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने भी कहा कि जहां पर यह घटना हुई वहां रेलवे ट्रैक मोड़ पर है। ऐसे में ड्राइवर को पहले से ही भीड़ को देख लेना संभव ही नहीं था।