कभी फेल तो कभी पास तो कभी फिर फेल, बोर्ड की लापरवाही ने ली छात्रा की जान


(Photo Credit : thenewsminute.com)

तेलंगाना राज्य बोर्ड ने शनिवार को लापरवाही की सभी सीमाओं को पार कर दिया। बोर्ड ने इंटरमीडिएट परीक्षा के परिणाम फिर से जारी किए, जिसमें फेल होने के कारण आत्महत्या करने वाली अनामिका अरुतला को पास घोषित कर दिया गया, लेकिन कुछ ही घंटों में उसे फिर से फेल घोषित कर दिया गया। बोर्ड की इस लापरवाही से अनाम का परिवार बहुत दुखी है।

नतीजे आने के बाद 18 अप्रैल को अनामिका ने आत्महत्या कर ली थी। अनामिका इंटरमीडिएट पहले वर्ष की छात्रा थी जिसे पहले परिणाम में फेल घोषित किया गया था। पहले परिणाम में, अनामिका को तेलुगु भाषा में केवल 20 अंक मिले। जब अनामिका के परिवार वालों ने दोबारा जांच कराई, तो उसे बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर पास घोषित कर दिया गया।

अनामिका के अंक तेलुगु में 20 से बढ़ाकर 48 हो गये। शाम सात बजे सहेजी गई एक प्रति के अनुसार, अनामिका के अंक 48 थे, लेकिन जल्द ही, जब उन्होंने फिर से देखने की कोशिश की, तो उसके अंक 21 हो गए। बोर्ड की इस लापरवाही से अनाम‌िका का परिवार दुखी है। परिवार के अनुसार, बोर्ड परीक्षा में फेल होने के बाद वह अवसाद में चली गई थी और उसने आत्महत्या कर ली। आत्महत्या करने के बाद जब कॉपियों की दोबारा जांच की गई, तो परिणाम पास घोषित किए गए जिसको दुबारा बदल कर फेल घोषित किया गया।