महाराष्ट्र के बीड जिले में क्यों है सभी महिलाएं गर्भ रहित


(Photo Credit : indianexpress.com)

महाराष्ट्र के बीड डिस्ट्रीक्ट में महिलाओं के गर्भ नहीं होते। आप शायद ही किसी ऐसी महिला को देख पाओगे जिसका गर्भ हो। सुनने में बेहद पेचीदा लगता है परंतु यही सच्चाई है कि महाराष्ट्र के सूखा प्रभावित इस जिले में गर्भ रहित महिलाएं ही मिलेंगी।

यहां के ज्यादातर लोग गन्ने की कटाई करने वाले होते हैं तथा महाराष्ट्र के गन्ना काटने की ऋतू में सभी गन्ने के खेतों वाले इलाकों में जाकर मजदूरी करते हैं। गन्ने कटाई के ठेकेदार उन महिलाओं को कार्य पर नहीं लेते जिनका गर्भ होता है। उनका मानना है कि गर्भ वाली महिला को पिरियड्स के दौरान कार्य से अवकाश करना होगा तथा हम कार्य में जरा भी विलंभ नहीं सह सकते।

(Photo Credit : idiva.com)

गन्ने की कटाई में पति व पत्नी को एक ही युनिट माना जाता है तथा प्रत्येक अवकाश के लिए उनको 500 रुपये का दंड भुगतना पड़ता है। उनका मानना है कि मांसिक पिरियड्य कार्य में बाधा उत्पन्न करते हैं तथा इसी चलते उन्होने इन पर भी दंड लगा रखा है।

इसका हल केवल यह है कि महिला जा कर ऑपरेशन करा ले ताकि गर्भ ना रहे तो कोई पिरियड्स नहीं होंगे और ना ही कोई बाधा उत्पन्न होगी। ठेकेदारों का कहना है कि हमारा एक लक्ष्य होता है जो हमको पूर्ण करना होता है जिसमें हम बाधा बरदाश नहीं कर सकते। महिला को ठेकेदार इस ऑपरेशन के लिए एडवांस दे देतें हैं जोकि बाद में उसकी मांसिक पगार से काट लिया जाता है।

(Photo Credit : ruralindiaonline.org)

एक केन कटर पुरुष व महिला ने बताया कि बतौर गन्ना कटाई करने वाले आपको यह करना क्यो आवश्यक हो जाता है। उन्होने बताया क‌ि प्रति दिन ३ से 4 टन गन्ने काटने के पश्चात हमको दैनिक 250 रुपये मिलता है। जोकि हमें 4 से 5 महिने करना होता है तथा इससे हुई कमाई को वर्ष भर चलाना होता है क्योंकि इसके बाद हमारी कोई और कमाई नहीं होती। ऐसे में चाहें बिमार भी हो, आप कार्य में विलंभ नहीं आने दे सकते। पिरियड्स से कार्य में अवरोध आता है।

(Photo Credit : ruralindiaonline.org)

महिला ने बताया कि एक गन्ना काटने वाली महिला का जीवन नर्क के समान है क्योंकि ठेकेदार तथा उनके पति उन पर यौन उत्पीड़न भी करते है तथा जहां उनको खेत में या शुगर मिल के पास टैंट में रहना पड़ता है जहां बाथरुम या शोचालय की सुविधा उपलब्ध नहीं होती। ऐसे में पिरियड्स आना और भी परेशानीजनक हो जाता है। इसलिए गर्भ का नहीं होना ही सबसे बेहतर विकल्प है।

गन्ना कटाई व्यापार में पिरियड्स एक समस्या है तथा उनके मुताबिक ऑपरेशन एक मात्र हल है। परंतु ऑपरेशन के कारण महिलाओं को स्वास्थ्य के तौर पर काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है जैसे हार्मोनल डिस्फन्कशन, मानसीक स्वास्थ्य, वजन बढ़ना इत्यादी।