संजय दत्त के चुनाव लड़ने के मुद्दे पर क्या उड़ रही है अफवाह


( Photo Credit : firstpost.com )

भारत में अभी चुनाव का मौसम चल रहा है। चुनाव के मौसम में हर जगह चुनाव की ही चर्चा चलती रहती है। ऐसे में कई बातें भी सुनने को मिलती है इनमें कुछ सही होती है तो कुछ अफवा भी होती है। ऐसी ही एक बात सामने आई है।

लंबे समय से चर्चा थी कि समाजवादी पार्टी अभिनेता संजय दत्त को गाजियाबाद से लोकसभा चुनाव में ला सकती है। गाजियाबाद वह सीट है जहां से भाजपा के वीके सिंह सांसद हैं और पार्टी ने 2019 के लिए भी उन्हे ही इस क्षेत्र के लिए तय किया है। कांग्रेस इस सीट के लिए कुमार विश्वास को उतारने के लिए सोच रही है। ऐसे में इस हाई-प्रोफाइल सीट पर संजय दत्त का नाम भी चल रहा था। आपको बता दें कि यह पूरी तरह से अफवाह है। संजय दत्त और समाजवादी पार्टी दोनों चाहें तो भी संजय दत्त लोकसभा चुनाव नहीं लड़ सकते।

भारतीय संविधान के R.P. Act 1951 (Representation of the People Act, 1951) के तहत, एक व्यक्ति जिसे 2 वर्ष या उससे अधिक की सजा सुनाई गई है, भारत में कोई संसदीय या विधानमंडल स्तर का चुनाव नहीं लड़ सकता है।

( Photo Credit : khabarchhe.com )

 

संजय दत्त, जिन्हें मुंबई बम विस्फोटों के दौरान अवैध हथियार रखने के लिए छह साल की सजा सुनाई गई थी, चुनाव में वोट देने की संभावना है, लेकिन चुनाव लड़ने नहीं दिया जा सकता है।

संजय दत्त के नाम की अफवाह के पीछे कारण यह है कि समाजवादी पार्टी को 2009 में लोकसभा चुनाव के दौरान उन्हें उम्मीदवार बनाने की प्रबल संभावना थी, लेकिन अदालत की सख्त कार्रवाई के बाद, संजय ने अपना नाम वापस ले लिया। संजय की राजनीति पर चर्चा इसलिए भी है क्योंकि वह एक राजनीतिक परिवार से आते हैं। उनके पिता सुनील दत्त केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं और प्रिया दत्त भी सांसद रह चुकी हैं।