योगी फॉर्मूला : प्रतिबंध लगा तो साध्वी प्रज्ञा ने मंदिर में जमाया डेरा


मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सुर्खियों में हैं।

भोपाल । मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सुर्खियों में हैं। बाबरी विध्वंस को लेकर दिए गए विवादित बयान पर चुनाव आयोग ने उनपर 72 घंटे चुनाव प्रचार ही प्रतिबंध लगा दिया। गुरूवार से शुरू होने वाले इस प्रतिबंध का साध्वी प्रज्ञा ने इस बैन का तोड़ निकाल लिया है। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की इस्टाइल स्टाइल में इस प्रतिबंध का सामना किया। चुनाव आयोग ने साध्वी पर बैन लगाया तो गुरुवार की सुबह भोपाल की प्रमुख मंदिर ‘कर्फ्यू वाली माता मंदिर’ पहुंचीं। यहां पर उन्होंने पूजा- अर्चना की और भजन-कीर्तन में भी शामिल हुईं। यहां साध्वी लोगों के बीच बैठीं और झाल बजाकर भजन वंदन किया।

मंदिर में पूजा के दौरान साध्वी ने 5 बार हनुमान चालीसा का पाठ किया। उल्लेखनीय है कि चुनाव आयोग ने बुधवार को साध्वी प्रज्ञा पर 72 घंटे का बैन लगा दिया है। उन पर प्रतिबंध गुरुवार सुबह शुरू हुआ और शनिवार तक चलेगा। इस दौरान वह किसी राजनीतिक कार्यक्रम, रैली, रोड शो में हिस्सा नहीं ले सकती हैं। दरअसल, साध्वी प्रज्ञा ने अपने एक संबोधन में बाबरी मस्जिद को लेकर बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि ढांचा गिराने का अफसोस क्यों होगा, उस पर तो हम गर्व करते हैं। राम के मंदिर पर अपशिष्ट पदार्थ थे, उन्हें हमने हटा दिया। इससे हमारे देश का स्वाभिमान जागा है और हम भव्य राम मंदिर मनाएंगे। उन्होंने दावा किया है कि वह भी बाबरी मस्जिद का ढांचा गिराने में शामिल थीं।

चुनाव आयोग के बैन के दौरान कोई भी प्रत्याशी किसी तरह का राजनीतिक प्रचार नहीं कर सकता है। लेकिन साध्वी ने इसका तोड़ कुछ वैसा ही निकाला जैसे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया था। इस दौरान यूपी सीएम लखनऊ के हनुमान मंदिर, प्रयागराज के मंदिर और अयोध्या में हनुमानगढ़ी में पूजा करने पहुंच गए थे।

– ईएमएस