रेप के आरोपियों को चप्पल मारने की सजा


पंचों ने अपने एक और फैसले में रेप के आरोपियों को चप्पल से मारने की सजा सुनाई है, जिसकी हर तरफ निंदा हो रही है।
पंचायत में पीडिता के पैर छुआए

आगरा। पंचों ने अपने एक और फैसले में रेप के आरोपियों को चप्पल से मारने की सजा सुनाई है, जिसकी हर तरफ निंदा हो रही है। मामला बरहन क्षेत्र की एक पंचायत का बताया जा रहा है। आरोपित और उसके एक दोस्त को चप्पल पड़वाई गई। दो दोस्तों ने पीड़िता के पैर छुए। पंचों के सामने उससे माफी मांगी। मामला रफादफा हो गया। पंचों के फरमान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। हालांकि दुराचार के संबंध में कोई तहरीर नहीं मिली है। लड़की की गुमशुदगी लिखाई गई थी। कुछ घंटे बाद ही परिजनों ने बताया कि बेटी लौट आई है। 21 नवंबर की रात एक किशोरी लापता हो गई थी। रात को ही घरवालों को इस बात की जानकारी हो गई। गांव में प्रधान सहित कई लोगों को यह पता चल गया। गांव में तरह-तरह की चर्चाएं शुरू हो गईं। नाटकीय अंदाज में किशोरी घर वापस लौट आई। उसने गांव के ही एक युवक पर गंभीर आरोप लगाए। बताया कि युवक के दोस्तों को भी घटना की जानकारी है। उन्होंने उसकी मदद की थी। मामला पंचों तक पहुंचा। एक खेत में पंचायत बुलाई गई। आरोपित और पीड़ित पक्ष के लोग वहां पहुंचे। आरोपित और उसके तीन दोस्तों को बुलाया गया। उन्होंने शर्मिंदा होने का नाटक किया। कुछ देर बाद पीड़िता को बुलाया गया। उससे कहा कि जिसकी जो गलती है उसे हिसाब से सजा दी जाएगी। दो आरोपियों को उसके सामने खड़ा किया गया। उससे कहा गया कि इन्हें गाली देते हुए चप्पल मार। पीड़िता पहले इसके लिए तैयार नहीं हुई। उस पर दबाव बनाया गया। उसने दो युवकों को एक-एक चप्पल मारी। दोनों युवकों ने उसे पैर छूए। पैर छूने के बाद युवक रोने लगे। इसके बाद पीड़िता को घर भेज दिया गया। ग्रामीण कहने लगे कि तीन दिन से इस मामले ने परेशान कर रखा था। अच्छा हुआ निपट गया। बेवजह पुलिस केस बनता। पंचायत का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। पुलिस के पास भी पहुंचा है। बरहन थानाध्यक्ष, नवीन कुमार ने कहा कि किशोरी के पिता ने सुबह थाना बरहन में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। दोपहर को बाद बताया मां से नाराज हो कर मौसी के घर चली गई। अब वापस आ गई। बरहन क्षेत्र में पंचायत में रेप का मामला निपटाने का यह तीसरा मामला है। पिछले दिनों एक महिला के साथ बदसलूकी पर पंचायत हुई थी। आरोपित को चप्पल से पीटा गया था। आरोपित की पत्नी से ही उसे चप्पलें पड़वाई गई थीं। इससे पूर्व वर्ष 2016 में रेप का मामला पंचायत में निपटाया गया था। इस मामले में पंचों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। पंच जेल गए थे। यह तीसरा मामला है।

– ईएमएस