500 क्विंटल नकली जीरा जप्त


राजस्थान के सिरोही की पुलिस ने सोमवार की शाम एक खेत में नकली जीरा बनाने की फैक्ट्री पर छापा डाला। 500 कुंटल नकली जीरा जप्त किया।
Photo/Twitter

घास और पत्थर से तैयार होता था नकली जीरा

सिरोही। राजस्थान के सिरोही की पुलिस ने सोमवार की शाम एक खेत में नकली जीरा बनाने की फैक्ट्री पर छापा डाला। 500 कुंटल नकली जीरा जप्त किया। जांच के दौरान पता लगा कि यह नकली जीरा जंगली घास, गुड़ की पात और पत्थर के पाउडर को मिलाकर तैयार किया जाता था ।

सूचना मिलने पर खाद्य विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे और वहां से नकली जीरा जप्त किया। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार किया। इसमें उत्तर प्रदेश के 12 बंधुआ मजदूरों को भी पुलिस ने छुड़ाया।

पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश के जलालाबाद जिले के संजय पुत्र बंसी लाल गुप्ता को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह पिछले 1 साल से नकली जीरा बनाने की फैक्ट्री चला रहा था।

आरोपी ने पुलिस को जानकारी दी कि आबूरोड के ट्रांसपोर्ट कंपनी की फर्जी बिल्टी बनाकर उंझा तथा नडियाद की जीरा मंडी में हर माह लगभग 11 ट्रक नकली जीरा भेजता था। जिससे उसे हर माह लगभग 16 लाख रुपए की कमाई होती थी उसने कहा कि नकली जीरा बनाने की लागत 10 से 12 रुपए किलो आती थी। नकली जीरा मंडी में 25 से 30 रुपए किलो में आसानी से बिक जाता था। उल्लेखनीय है बाजार में असली जीरे की कीमत 190 से लेकर 250 रुपया किलो बिकता है।

नकली जीरा बनाने की विधि

आरोपी नदियों के किनारे उगने वाली घास को 5 से 6 रुपए किलो में खरीदता था इसे गुड़ के पानी में मिलाकर उसे सुखाता था जिससे घास का रंग जीरे की तरह हो जाता था।जीरे में चमक लाने के लिए पत्थरों का पाउडर डालता था। इस सारी प्रक्रिया में 10 से 12 रुपए किलो का खर्च आता था।

– ईएमएस