पुलिस ने बाबा आशु का कराया पोटेंसी टेस्ट 


नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने गाजियाबाद, यूपी की महिला के साथ दुष्कर्म व उसकी बेटी के साथ छेड़छाड़ के आरोप में गिरफ्तार किए बाबा आशु गुरुदेव उर्फ आसिफ मोहम्मद खान का पोटेंसी टेस्ट (मर्दाना टेस्ट) कराया है। इस टेस्ट की रिपोर्ट नहीं मिली है।

पुलिस को मोबाइल डिटेल से सबूत मिले हैं कि पीड़िता व आरोपी वारदात वाले दिन एक ही आश्रम में थे। दिल्ली पुलिस ने बाबा आशु के बेटे समर के दोस्त सौरभ व मैनेजर को पूछताछ में शामिल होने के लिए नोटिस भेजा है।

अपराध शाखा डीसीपी डा.जी रामगोपाल नायक का कहना है कि आशु का एम्स में पोटेंसी टेस्ट कराया गया है। रिपोर्ट मिलने में समय लग सकता है। पुलिस ने बाबा आशु को तीन दिन की पुलिस रिमांड पर लेकर छापेमारी की है। आरोपी से उन जगहों की निशानदेही करवाई, जहां पीड़िता के साथ वारदात हुई। मोबाइल डिटेल से साफ हो गया है कि वारदात के दिन पीड़िता ने जिन तारीखों को दुष्कर्म करने की बात कही हैं उस दिन बाबा आशु मौके पर था। साथ ही पीड़िता भी उन जगहों पर थी।

पुलिस ने आरोपी व पीड़िता के मोबाइल की एक वर्ष की डिटेल निकलवाई है। इस मामले में आशु बाबा के अलावा बेटा समर, समर का दोस्त सौरभ व बाबा का मैनेजर आरोपी हैं। पुलिस समर से पूछताछ कर रही है। पुलिस ने सबूत जुटाने के लिए आशु गुरुदेव का तीन दिन का रिमांड सोमवार को खत्म हो रहा है।

डीसीपी डा.जी रामगोपाल नायक का कहना है कि बाबा को कोर्ट में पेशकर रिमांड पर लिया जाएगा। आरोपी का असली नाम आसिफ मोहम्मद खान है। वह मोटी रकम के लिए बाबा बन गया। आरोपी ने बताया कि अगर वह आसिफ मोहम्मद खान बनकर हस्त रेखा देखता तो उसे मोटा चढ़ावा नहीं मिलता। उसे लोग जादू-टोना करने वाला मानते। इस कारण वह बाबा आशु बनकर लोगों के हाथ देखने व पूजा कराने लगा। आरोप है कि उसने लोगों की धार्मिक भावनाओं को भी ठेस पहुंचाई है।

(ईएमएस)