पायल तडवी आत्महत्या मामले में पुलिस ने किया तीनो आरोपियों को गिरफ्तार


(Photo Credit : inkhabar.com)

मुंबई के नायर अस्पताल में एमडी की पढ़ाई करने वाले डॉक्टर डॉ पायल तडवी की आत्महत्या के मामले में पुलिस ने मुंबई के नायर अस्पताल के तीन आरोपी डॉक्टरों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने मंगलवार को आरोपी महिला चिकित्सक भक्त‌ि मेहेर को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने भक्ति मेहर के अलावा, आरोपी डॉ. अंकिता खंडेलवाल और हेमा आहूजा को गिरफ्तार कर लिया है।

गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने पायल तडवी के माता-पिता की शिकायत पर तीन वरिष्ठ डॉक्टरों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। परिजनों का आरोप है कि आरोपी डॉक्टरों ने उनकी बेटी को मानसिक प्रताणना के साथ जातिगत टिप्पणी भी की थी। पायल सीनियर्स द्वारा किये गए इस व्यवहार से बहुत परेशान थी और इसीलिए उसने ऐसा कदम उठाया।

क्या है पूरा मसला?

डॉक्टर पायल तडवी बीवइएल नायर अस्पताल से एमडी की पढ़ाई कर रही थी। उसका दूसरा साल चल रहा था। महाराष्ट्र एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स के एक सदस्य ने मीडिया रिपोर्ट में कहा कि डॉ. पायल ने आत्महत्या करने से लगभग 4 घंटे पहले ही तीन सर्जरी की थी। उन्होंने कहा कि उस समय वह बिल्कुल भी तनाव में नहीं थे। सर्जरी के कुछ घंटों के बाद, उसका शव उसके कमरे में पाया गया। 

जातीगत टिप्पणी करने का आरोप

पायल तडवी के परिवार ने आरोप लगाया है कि अस्पताल के वरिष्ठ उसके साथ मानसिक उत्पीड़न करते थे, साथ ही जातीगत टिप्पणी भी करते थे। पायल सीनियर्स द्वारा किये गए इस व्यवहार से बहुत परेशान थी। परिजनों का आरोप है कि इस व्यवहार और रैगिंग के कारण उसने आत्महत्या करने का कदम उठाया है। 

रैगिंग के खिलाफ शिकायत

मामले में महिला रोग विभाग की अध्यक्ष को अगली सूचना तक निलंबित कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार, पायल के परिजनों ने अस्पताल के डीन, पुलिस और राज्य मंत्री से भी इस मामले में आग्रह किया है। उन्होंने लिखित शिकायत भी की, लेकिन किसी ने भी रैगिंग रोकने के लिए कदम नहीं उठाए। इसके बाद डॉक्टर पायल तडवी ने आत्महत्या कर ली।