बाज़ नहीं आ रहे जम्मू जेल में बंद वो सात पाकिस्तानी कैदी, राज्य सरकार ने क‌ििहा – इनको तिहाड़ शिफ्ट करो!


प्रतिकात्मक तस्वीर। (PC : Pixabay.com)

पाक कैदी कर रहे दूसरों को गुमराह, जेके सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से तिहाड़ जेल शिफ्ट करने की मांग की

नई दिल्‍ली (ईएमएस)। पुलवामा आतंकी हमले के बाद जेलों में बंद पाकिस्‍तानी कैदियों की सुरक्षा का मुद्दा भी सामने आया है। इसी कड़ी में जम्‍मू और कश्‍मीर सरकार ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके कहा है कि जम्‍मू की जेल में बंद सात पाकिस्‍तानी कैदियों को सुरक्षा के लिहाज से दिल्‍ली की तिहाड़ जेल शिफ्ट किया जाए। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और दिल्‍ली सरकार से जवाब मांगा है।

जम्मू कश्मीर सरकार ने आरोप लगाया है कि ये कैदी स्थानीय कैदियों को गुमराह कर रहे हैं। पुलवामा हमले के बाद देश के अलग-अलग हिस्‍सों में कश्‍मीरी छात्रों से मारपीट के मामले की सुप्रीम कोर्ट में शु्क्रवार को सुनवाई हुई। इस दौरान कश्मीरी मुस्लिम छात्रों को सुरक्षा देने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और 11 राज्यों को नोटिस जारी किया है।

कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा पर सख्त सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिए हैं कि सभी राज्य कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा के लिए कदम उठाने को कहा। भीड़ की हिंसा मामलों को देखने के लिए पहले से बने नोडल ऑफिसर भी उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करें। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि कोर्ट के आदेश और सुरक्षा के इंतजाम का व्यापक प्रचार किया जाए। इस मामले की अगली सुनवाई 27 फरवरी को होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों के चीफ सेक्रेटरी, केंद्र शासित प्रदेशों और दिल्ली सरकार को आदेश जारी किए हैं कि कश्मीरी लोगों व अन्य अल्पसंख्यकों के खिलाफ हमले, बॉयकॉट व अन्‍य घटनाओं को रोकने के लिए उचित कदम उठाए जाएं। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को मामले में नोडल अधिकारी को नियुक्त करने के आदेश देते हुए कहा कि राज्यों में पूर्व में भीड़ द्वारा हिंसा मामलों में नियुक्त नोडल अधिकारी इसतरह के मामलों की भी समीक्षा करने वाले है। सभी राज्यों के डीजीपी उचित कदम उठाकर ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए कहा गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र, पंजाब, उत्तरप्रदेश, बिहार, जम्मू-कश्मीर, हरियाणा, मेघालय, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड से जवाब मांगा। याचिकाकर्ता ने उक्त राज्यों में कश्मीरी लोगों के साथ घटनाएं होने की बात कही है।