निजामाबाद में 26 हजार ईवीएम से हो रहा मतदान, गिनेस वर्ल्ड रेकॉर्ड में हो सकता है शामिल


लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 91 सीटों पर मतदान जारी है। इस बीच सभी की निगाहें तेलंगाना की निजामाबाद सीट पर टिकी हुई हैं।
Photo/Twitter

निजामाबाद। लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 91 सीटों पर मतदान जारी है। इस बीच सभी की निगाहें तेलंगाना की निजामाबाद सीट पर टिकी हुई हैं। इस सीट पर दिलचस्प मुकाबला हो रहा है। एक तरफ सत्तारूढ़ टीआरएस के मुखिया चंद्रशेखर राव की बेटी के कविता हैं तो दूसरी तरफ उनके खिलाफ 178 किसान चुनाव लड़ रहे हैं। इस सीट पर कुल 185 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। प्रत्याशियों की संख्या को देखकर हुए चुनाव आयोग ने यहां वोटिंग के लिए 26 हजार ईवीएम की व्यवस्था की हैं जो जल्द ही गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हो सकता है। तेलंगाना के मुख्य चुनाव आयुक्त रजत कुमार ने बताया, हमारे द्वारा गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के प्रतिनिधियों को लिखा है कि हमारे द्वारा निजामाबाद के किसी भी चुनाव में सबसे अधिक संख्या में ईवीएम का इस्तेमाल हो रहा हैं।

गिनीज बुक की टीम जल्द ही निजामाबाद का दौरा कर सकती है। सर्वाधिक ईवीएम के अलावा इस संसदीय क्षेत्र ने दूसरा रिकॉर्ड भी बनाया है। साधारण तौर पर एक कंट्रोल यूनिट से 4 बैलेटिंग यूनिट जुड़ी होती हैं लेकिन निजामाबाद में 12 बैलेटिंग यूनिट प्रत्येक कंट्रोलिंग यूनिट से जोड़ी गई हैं। इस प्रकार प्रत्येक पोलिंग बूथ में एक कंट्रोल यूनिट, 12 बैलेट यूनिट और एक वीवीपैट मशीन लगाई गई हैं। यह सभी मिलकर ईवीएम बनाते हैं। सूत्रों के अनुसार, गिनीज की टीम गुरुवार को ही निजामाबाद का दौरा करने वाली है। सभी ईवीएम को चुनाव परिणाम के बाद भी स्ट्रॉन्ग रूम में छह महीनों के लिए स्टोर किया जाएगा। इसबार निजामाबाद लोकसभा सीट से 178 किसान सहित 185 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। इसकी वजह से यहां हो रहे मतदान पर 35 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। जोकि औसत खर्च से 15 करोड़ ज्यादा है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी रजत कुमार ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि निजामाबाद क्षेत्र में 7 विधानसभा क्षेत्र हैं और प्रत्येक पर औसत खर्च तीन करोड़ है यानी कुल मिलाकर 21 करोड़ आना चाहिए। हालांकि निजामाबाद से खड़े उम्मीदवारों को देखा जाए तो यहां अतिरिक्त 15 करोड़ की जरूरत है।

तेलंगाना में सत्तारूढ़ टीआरएस के खिलाफ किसानों में रोष है। इसी के चलते यहां से टीआरएस उम्मीदवार के कविता के खिलाफ 178 किसानों ने नामांकन दाखिल किया था। ये किसान अपनी उपज के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) तय करने में नाकाम रहने पर राज्य में सत्तारूढ़ दल टीआरएस के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। किसानों द्वारा हल्दी और लाल ज्वार के लिए एमएसपी और यहां एक हल्दी बोर्ड का गठन किए जाने की मांग करने को लेकर निजामाबाद सुर्खियों में रहा है। माना जा रहा है कि बड़ी तादाद में किसानों के चुनाव लड़ने से सत्तारूढ़ दल का वोट बैंक प्रभावित होने वाला है। निजामाबाद में टीआरएस राज्य सभा सदस्य डी श्रीनिवास के बेटे डी अरविंद बीजेपी के उम्मीदवार हैं। कांग्रेस ने एआईसीसी सचिव मधु यक्षी गौड़ को अपना उम्मीदवार बनाया है। तेलंगाना में लोकसभा की कुल 17 सीटें हैं और सभी पर गुरुवार को मतदान जारी है।

– ईएमएस