ममता झुकीं, सारी मांगे मान ली, डॉक्टरों से काम पर लौटने की अपील की


(Photo Credit : cloudfront.net)

कोलकाता (ईएमएस)। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अंततः डॉक्टरों की हड़ताल के समक्ष झुकते हुए उनकी सारी मांगें मान ली हैं। उन्होंने एक प्रेस वार्ता में डॉक्टरों से काम पर लौटने की अपील की। उन्होंने कहा कि हम किसी तरह का बल प्रयोग नहीं कर रहे हैं। सारी मांगे मान ली है। डॉक्टरों को सदबुद्धि मिले। उन्होंने कहा कि किसी संवैधानिक पद पर बैठे शख्स से बातचीत करने के लिए सरकारी दफ्तर सबसे बेहतर जगह है। ममता बनर्जी ने कहा कि कल और आज मैनें डॉक्टरों का इंतज़ार किया।

उधर कोलकाता के हड़ताली जूनियर डॉक्टरों ने सीएम ममता बनर्जी से सचिवालय में जाकर मुलाकात से इनकार कर दिया है। पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों की हड़ताल से अब देश भर के डॉक्टर जुड़ गए हैं। इसका व्यापक असर देश भर में दिखाई दे रहा है। इस बीच खबर है कि ममता ज़ख़्मी डॉक्टरों से मिलने जा सकती हैं, जो इस वक्त प्राइवेट अस्पताल में भर्ती हैं।
कोलकाता में डॉक्टरों की हड़ताल का पांचवां दिन है। कल देर रात जूनियर डॉक्टरों ने सचिवालय जाकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात और बात करने से इनकार कर दिया था। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री अस्पताल आकर उनसे बात करें और अपने बयान को वापस लें। मुख्यमंत्री ने डॉक्टरों को अल्टीमेटम देते हुए कहा था कि जो डॉक्टर काम पर नहीं लौटेंगे, उन्हें हॉस्टल छोड़ना होगा। साथ ही सीएम ममता बनर्जी ने डॉक्टरों की हड़ताल को माकपा और भाजपा की साज़िश बताया था। जूनियर डॉक्टरों के मुख्यमंत्री से मुलाकात से इनकार से पहले कल शाम सीनियर डॉक्टर्स ने ममता बनर्जी से मुलाक़ात की थी।

जिसके बाद सीनियर डॉक्टर्स और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया था कि शनिवार शाम पांच बजे जूनियर डॉक्टर्स से सचिवालय में मुख्यमंत्री मिलेंगी। जिस प्रस्ताव को जूनियर डॉक्टरों ने ठुकरा दिया। रविवार को पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी NRS मेडिकल कॉलेज जाकर घायल जूनियर मेडिकल डॉक्टरों से मुलाक़ात करेंगे। बंगाल में 300 डॉक्टरों ने सरकार के विरोध में सामूहिक तौर पर इस्तीफा दे दिया है। ये पूरा मामला उस वक़्त शुरू हुआ था जब इस हफ़्ते सोमवार देर रात एक दिल के मरीज़ की हार्ट अटैक से मौत हो जाने पर उनके परिजनों ने 2 जूनियर डॉक्टरों की जमकर पिटाई कर दी जिसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए।