30 सालों में पहली बार आम वोटर की तरह भाजपा के वरिष्ट नेता आडवाणी ने किया मतदान


लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने मंगलवार को अहमदाबाद में वोट डाला है।
Photo/Twitter

अहमदाबाद। लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने मंगलवार को अहमदाबाद में वोट डाला है। बड़ी बात यह है कि साल 1989 के बाद यानी 30 सालों में ऐसा पहली बार हुआ है कि आडवाणी ने बिना लोकसभा चुनाव लड़े बिना वोट किया हो। आडवाणी की गांधीनगर सीट से इसबार बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह चुनाव लड़ रहे हैं। आडवाणी इस सीट से साल 1991 से लगातार सांसद रहे हैं। बीजेपी के वरिष्ठ नेता आडवाणी ने शाहपुर हिंदी स्कूल में मतदान किया। पोलिंग बूथ पर पहुंचे आडवाणी को चारों ओर से मीडियाकर्मियों ने घेर लिया, लेकिन आडवाणी बिना कुछ कहे वोट डालने पहुंच गए, आडवाणी की उम्र 91 साल है।

बता दें कि एलके आडवाणी की राजनीतिक यात्रा में गांधीनगर का सबसे अहम योगदान है। साल 1991 में 10वीं लोकसभा में उन्होंने गुजरात के गांधीनगर से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। तब से अबतक आडवाणी इसी सीट से सांसद रहे हैं। इसके पहले 1970 से लेकर 1989 तक 19 साल वह राज्यसभा से ही चुने जाते रहे थे। बता दें कि नौंवीं लोकसभा में 1989 में उन्होंने पहली बार नई दिल्ली से लोकसभा चुनाव जीता था। 1980 बनी बीजेपी मात्र 19 साल में सत्ता के शिखर तक पहुंच गई और 19 साल के सफर में अपने साथी गठबंधन दलों के साथ मिलकर 5 साल के लिए सत्ता में आ गई। पार्टी में उस समय अटल बिहारी वाजपेयी और आडवाणी की जोड़ी का वर्चस्व था। लालकृष्ण आडवाणी तीन बार पार्टी के अध्यक्ष रह चुके हैं।

पार्टी की स्थापना के बाद अटल बिहारी वाजपेयी अध्यक्ष बने थे और इसके बाद आडवाणी ने मोर्चा संभाला था। साल 2004 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा और पार्टी केंद्र की सत्ता से बाहर हो गई। इसके बाद कांग्रेस पार्टी 10 साल तक सत्ता में रही। 2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी को ऐतिहासिक जीत मिली और इतिहास में पहली बार बीजेपी को अपने दम पर पूर्ण बहुमत मिला। लेकिन नरेंद्र मोदी को पार्टी के भीतर लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने में कई अहम मोड़ सामने आए।

– ईएमएस