आध्यात्मिक के रंग में रंगे लालू के बेटे तेज प्रताप बृज में घूम रहे हैं मंदिर-मंदिर


तेज प्रताप ब्रज में डेरा डाले हुए हैं। ब्रज में तेज पूरी तरह आध्यात्मिक हो गए हैं। यहां वह धार्मिक वेशभूषा में मंदिर-मंदिर दर्शन के लिए जा रहे हैं।
Photo/Twitter

वृंदावन। इसे बाल गोपाल के प्रति आकर्षण कहे या राजनीति और पारिवारिक मोह से मुक्ति पर आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव अब तक घर नहीं लौटे हैं। पत्नी ऐश्वर्या से तलाक की अर्जी दाखिल करने के बाद से ही तेज प्रताप ब्रज में डेरा डाले हुए हैं। ब्रज में तेज पूरी तरह आध्यात्मिक हो गए हैं। यहां वह धार्मिक वेशभूषा में मंदिर-मंदिर दर्शन के लिए जा रहे हैं। गुरुवार को भी तेज प्रताप को यहां ब्रज के मंदिरों में देखा गया। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस दौरान तेज ने प्रवचन सुनने के साथ सत्संग में भी हिस्सा लिया।

ज्ञात हो कि दिवाली के मौके पर भी तेज प्रताप घर से दूर रहे और विंध्याचल में परिवार की शांति के लिए यज्ञ कराया था। तलाक की अर्जी दाखिल करने के बाद से ही तेज मथुरा और वृंदावन की गलियों में घूम रहे हैं। बीते 10 नवम्बर को भी गले में कंठी माला पहने, माथे पर तिलक लगाए और सफेद रंग का कुर्ता-पायजामा पहने तेज प्रताप वृन्दावन के केशी घाट पहुंचे थे। यहां करीब एक घंटे तक अपने मित्रों के साथ केशी घाट पर उन्होंने नौका विहार किया। हालांकि, इस दौरान उन्होंने मीडिया से दूरी बनाए रखी।

वृंदावन में जब कुछ पत्रकारों ने उनसे बात करने की कोशिश की तो तेज प्रताप ने कहा था, ‘मुझे अपनी जिंदगी जी लेने दो भाई। मैं शांति की तलाश में हूं।’ उधर, तेज प्रताप ने अपनी शादी के पीछे सियासी साजिश का संकेत दिया है। अब वह इस साजिश के तीन खलनायक किरदारों को सामने ला रहे हैं। उन्होंने खुलकर तीन नाम लिए हैं, जिन्हें वे इस शादी-साजिश और तलाक का मुख्य कारण बता रहे हैं।

– ईएमएस