दिल्ली में चल रहा था फर्जी एजुकेशन बोर्ड, 2 से 10 हजार में बेची जा रही थीं नकली मार्कशीट


दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक बड़े एजुकेशन फर्जीवाड़े का भंडाफोड़ किया है। दिल्ली में ही एक फर्जी एजुकेशन बोर्ड चल रहा था
Photo/Twitter

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक बड़े एजुकेशन फर्जीवाड़े का भंडाफोड़ किया है। दिल्ली में ही एक फर्जी एजुकेशन बोर्ड चल रहा था। इसका नाम दिल्ली हायर सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड रखा था। इस बोर्ड की बनी हुई १०वीं और १२वीं कक्षा की मार्कशीट दो हजार से १० हजार रुपए तक में बेची जा रही थीं। अब तक देशभर में करीब ५५ हजार छात्रों को ये नकली मार्कशीट बेची जा चुकी हैं। इस बोर्ड के साथ जुड़े देशभर के करीब २०० स्कूल और संस्थान क्राइम ब्रांच की रडार पर हैं। करीब २६ स्कूलों पर भी क्राइम ब्रांच की गाज गिर सकती है। क्राइम ब्रांच गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में अभी भी छापेमारी कर रही है। इस मामले में बोर्ड को चलाने वाले मास्टमाइंड अल्ताफ राजा समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।

इसका खुलासा उस वक्त हुआ जब क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने फर्जी छात्र के परिजन बन बोर्ड से १०वीं और १२वीं कक्षा की मार्कशीट बनवाईं। इस मामले में अभी पांच से छह और लोगों की गिरफ्तारी होगी। गौरतलब है कि साल २०१७ में दिल्ली की शाहदरा डिस्ट्रिक्ट पुलिस ने एक फर्जी एजुकेशन बोर्ड का पर्दाफाश किया था। यह बोर्ड वेबसाइट और अखबारो में इश्तिहार देकर २०११ से चल रहा था। ये अलग अलग १७ स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी की डिग्री, मार्कशीट देने का वादा करता था और फर्जी मार्कशीट और डिग्री देता था। यूपी, गुजरात, चंडीगढ़, महाराष्ट्, हिमाचल के अलावा कई जगह के स्कूलों और यूनिवर्सिटी के सर्टिफिकेट बांटता था। जब इनके सेंटर पर छापा मारा गया था तो इनके पास से १५ हजार खाली और बनाई हुई अलग-अलग यूनिवर्सिटी बोर्ड की फर्जी मार्कशीट, रबर स्टैम्प, प्रिंटर, कम्प्यूटर बरामद हुए थे। ये छोटे स्कूलों को मान्यता देता था, पर्सनली आने वाले स्टूडेंट्स को भी मार्कशीट देता था। इन स्कूलों को नहीं पता होता था कि ये फर्जी बोर्ड चल रहा है।

– ईएमएम