आज भी 30 पैसे में भरपेट भोजन


टाटा मोटर्स की यह कैंटीन पिछले 64 वर्षों से संचालित हो रही है। इस कैंटीन में स्थाई कर्मचारियों को भोजन के लिए हर माह 20 रुपये चुकाने पड़ते हैं।
Photo/Twitter

जमशेदपुर। जमशेदपुर में टाटा मोटर्स की कैंटीन है। यहां पर प्रतिदिन लगभग 15000 कर्मचारी भोजन करते हैं। इसके बारे में दावा किया जाता है कि यह विश्व की किसी भी सरकारी और गैर सरकारी संस्था में सबसे कम कीमत में यहां भोजन मिलता है।

टाटा मोटर्स की यह कैंटीन पिछले 64 वर्षों से संचालित हो रही है। इस कैंटीन में स्थाई कर्मचारियों को भोजन के लिए हर माह 20 रुपये चुकाने पड़ते हैं। वहीं अन्य कर्मचारियों को एक टाइम के भोजन के लिए मात्र 30 पैसे देने होते हैं।

टाटा मोटर्स ने 1954 में यह कैंटीन शुरू की थी पहले इस कैंटीन को टाटा मोटर्स कंपनी स्वयं संचालित करते थी। उसके बाद टाटा मोटर्स ने सोडेस्को नामक एजेंसी को कैंटीन चलाने का ठेका दे दिया है।

यहां कर्मचारियों को भोजन में चावल,दाल ,दो तरह की सब्जी, पापड़ ,दो केला ,सलाद ,दही और मिठाई मात्र 30 पैसे में उपलब्ध कराई जाती है। इस कैंटीन में नाश्ते के रूप में नमकीन पूड़ी प्याज लड्डू हलवा चने की सब्जी और आलू की टिकिया मात्र 6 पैसे में प्रत्येक आइटम मांग के अनुसार कर्मचारियों को उपलब्ध होता है।

– ईएमएस