गोवा में पर्रिकर के इस्तीफे की अफवाह से कांग्रेस सियासी जमावट में जुटी


गोवा के बीमार मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के इस्तीफे की अफवाह के साथ एक बार फिर सियासत तेज हो गई है।
(File Photo: IANS)

पणजी । गोवा भले ही छोटा राज्य हो पर यहां पर राजनीति की बिसात पर बीमार मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को लेकर घमासान जारी रहता है। अब पर्रिकर इस्तीफे की अफवाह के साथ एक बार फिर सियासत तेज हो गई है। पर्रिकर के इस्तीफे की अफवाह के बीच कांग्रेस फिर सत्ता में आने की जुगत में जुट गई है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक यहां बीजेपी के साथ गठबंधन में शामिल पार्टियों को कांग्रेस ने अपने साथ आने की अपील की है। कांग्रेस ने इन पार्टियों को साथ आने का न्योता देते हुए कहा है कि अपने विवेक से निर्णय लें और नेतृत्वविहीन इस सरकार का साथ छोड़ दें।

गौरतलब है कि पर्रिकर की बीमारी के बाद से गोवा में सियासी उठापठक जारी है। इस बीच कांग्रेस लगातार वहां सरकार बनाने की तैयारी करती दिखती रही है। हालांकि पिछले दिनों कांग्रेस को तब बड़ा झटका लगा था जब सरकार बनाने का मौका मांग रही कांग्रेस के दो विधायक बीजेपी में शामिल हो गए थे। गोवा में अब अंकों का खेल काफी महत्वपूर्ण हो गया है।

पिछले दिनों दो नेताओं के बीजेपी में शामिल होने के बाद कांग्रेस यहां पहले के मुकाबले कमजोर हुई है। दरअसल, गोवा की 40 सदस्यीय विधानसभा में पर्रिकर सरकार के समर्थन में 23 विधायक हैं। इस सरकार को बीजेपी के 14 विधायक, गोवा फॉरवर्ड पार्टी और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के तीन-तीन विधायक और तीन निर्दलीय समर्थन कर रहे हैं। 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा में अब तक सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस के सदस्यों की संख्या फिलहाल 16 से घटकर 14 हो गई है।

उधर, गोवा बीजेपी के अध्यक्ष विनय तेंदुलकर ने पिछले दिनों यह साफ किया था कि मनोहर पर्रिकर मुख्यमंत्री पद पर बने रहेंगे। विधानसभा भी भंग नहीं की जाएगी। उधर, सत्ताधारी गठबंधन में शामिल गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) ने कहा था कि मौजूदा सरकार अपना कार्यकाल पूरा करे, यह सुनिश्चित करना भाजपा आलाकमान की जिम्मेदारी है।

-ईएमएस