होटेल में लगे साउंड सिस्टम के कंपन से दुर्लभ प्रजाति के मगरमच्छ की मौत


तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के होटल में लगे साउंड सिस्टम के कारण एक दुर्लभ प्रजाति के मगरमच्छ की मौत हो गई।

चेन्नई । आवाज का प्रदूषण कितना घातक हो सकता है यह इस बात से पता चलता है कि इससे किसी जानवर की जान भी जा सकती है।
तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के होटल में लगे साउंड सिस्टम के कारण एक दुर्लभ प्रजाति के मगरमच्छ की मौत हो गई। चेन्नई की प्रसिद्ध ईस्ट कोस्ट रोड पर स्थित शेरेटन ग्रैंड रिजॉर्ट के बगल में ही एक चिड़ियाघर मौजूद है, जहां इस मगरमच्छ को रखा गया था। जू के अधिकारियों का आरोप है कि होटल में देर रात तक चली पार्टी और यहां लगे साउंड सिस्टम के वाइब्रेशन के कारण स्ट्रेस से मगरमच्छ की मौत हो गई।

30 मार्च को इस मामले की जानकारी देते हुए जू के संस्थापक सदस्य और पद्मश्री विजेता रोमुलस विटेकर ने बताया कि होटेल और जू के बीच की कुल दूरी 50 फीट से भी कम है। वहीं जिस साउंड सिस्टम के कारण मगरमच्छ की जान गई, उसे जू और होटल के बीच एक दीवार के पास रखा गया था। साउंड सिस्टम की आवाज और इससे निकल रहे वाइब्रेशन के कारण जू में संरक्षित एक 12 दुर्लभ वर्षीय मादा मगरमच्छ की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि फिलहाल जू में एक नर मगरमच्छ और तीन मादा मगरमच्छ मौजूद हैं, जिनके संरक्षण के लिए अब कुछ बड़े निर्णय लेने की तैयारी की जा रही है। जू के अधिकारियों के अनुसार, मगरमच्छों को संरक्षित करने के उद्देश्य से इन्हें अब कहीं और रखने की योजना पर भी विचार किया जा रहा है।

हालांकि स्ट्रेस के कारण दुर्लभ जीवों की मौत का यह पहला मामला नहीं है। जू को संचालित करने वाले मद्रास क्रोकाडाइल बैंक ने पूर्व में भी ऐसे कई मामले उठाए हैं, जिनमें स्ट्रेस के कारण मगरमच्छों की जान गई है। हालांकि इस मामले के बाद विवादों के घेरे में आए शेरेटन ग्रैंड रिजॉर्ट के अधिकारियों ने चिड़ियाघर के अधिकारियों को हर संभव मदद देने की बात कही है। होटेल के महाप्रबंधक श्रीबल मलिक ने कहा, ‘हम सभी पूरी तरह से पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध हैं और इस मामले में भी क्रोकाडाइल बैंक के अधिकारियों के साथ मिलकर हर संभव कदम उठाया जा रहा है। हाल ही में होटेल और जू के अधिकारियों के बीच एक मीटिंग भी हुई थी, जिसमें हमने उन्हें हर संभव मदद देने का भरोसा दिया था।’

– ईएमएस