कन्हैया पर केस : क्या जेएनयू के प्रोटेस्ट से गुस्सा होकर केजरीवाल ने दी केस को मंजूरी?


जेएनयू में कथित रूप से राष्ट्र विरोधी नारेबाजी के संबंध में कन्हैया कुमार पर राष्ट्रद्रोह का मामला चलाने की मंजूरी दिल्ली सरकार की ओर से नहीं मिल रही थी। शुक्रवार को आप सरकार ने इसकी मंजूरी दे दी, जिससे कन्हैया कुमार और अन्यों के खिलाफ अब मामला चल सकेगा।

हालांकि इस मामले में भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने बयान में कहा है कि जेएनयू के छात्रों ने विगत दिनों दिल्ली में हुए दंगों के दौरान मुख्मयंत्री केजरीवाल के घर पर विरोध प्रदर्शन किया था। इसी से गुस्सा होकर केजरीवाल ने जेएनयू मामले में कन्हैया कुमार के खिलाफ केस चलाने की मंजूरी दी है।

 

हालांकि इस मामले में आप विधायक राघव चढ्ढा ने कहा है कि दिल्ली सरकार ने प्रकरण के कानूनी प्रावधानों का अध्ययन करके दिल्ली सरकार के गृह मंत्रालय को केस चलाने की अनुमति प्रदान की है। पिछले पांच वर्षों में दिल्ली सरकार ने किसी भी कानूनी मामले को लटकाया नहीं है। राघव चढ्ढा ने कहा कि हमारा मानना है कि सरकार वो एजेंसी नहीं है या उसके पास अधिकार नहीं है कि किसी भी मामले का मैरिट तय करे। आखिर में कानूनी मामलों पर अदालत को ही फैसला करना होगा है।