सिंधिया की सल्तनत पर केपी का कब्जा


(PC : Newsstate.com)

जीत में जिले की रही महत्वपूर्ण भूमिका, 1 लाख 60 हजार मतों से की जीत दर्ज

अशोकनगर (ईएमएस)। देश और प्रदेश में मोदी की लहर ऐसी चली की बढ़े-बढ़े दिग्गज नेता भी इसके बहाव में बहते हुए दिखाई दिए। ऐसा ही नजारा गुना-शिवपुरी लोकसभा सीट पर देखने को मिला। ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ मानी जाने वाली इस सीट पर उन्ही के प्रतिनिधि ने पटकनी खिला दी।

गुरुवार को घोषित हुए लोकसभा चुनाव परिणामों में कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा के डॉ. केपी यादव यादव ने एक लाख से अधिक वोट से हराकर गुना संसदीय सीट पर अपना कब्जा जमा लिया है। खास बात यह है कि डॉ. केपी यादव की इस जीत में संसदीय क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले तीनों जिलों में अशोकनगर जिले का सबसे अधिक योगदान रहा और अकेल अशोकनगर जिले से उनकी बढ़त करीब 49 हजार मतों से रही। उल्लेखनीय है कि प्रदेश की 29 सीटों में से कांग्रेस को महज 1 सीट ही मिल पाईं हैं। नेहरू महाविद्यालय में प्रात: 8 बजे से आरंभ हुई लोकसभा चुनावों की मतगणना के शुरुआती दौर से ही भाजपा कार्यकर्ताओं के चेहरों पर मुस्कराहट देखी गई।

मतगणना आरंभ होने के साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया पिछडते हुये नजर आये हालांकि मामूली अंतर से जीत-हार का अंतर चल रहा था और कांग्रेस नेताओं को आशंका थी कि यह अंतर ज्यादा देर तक नहीं चलेगा। लेकिन मतगणना के अंतिम दौर तक जिले की तीनों विधानसभाओं से कांग्रेस पीछे ही चलती रही अंतत: जिले से हारना ही पड़ा और मतदाताओं ने भाजपा प्रत्याशी डॉ. केपी यादव को विजय दिला दी। गुना लोकसभा के सभी विधानसभा क्षेत्रों के परिणामों के आधार पर ज्योतिरादित्य सिंधिया को 458768 मत प्राप्त हुए, वहीं भाजपा प्रत्याशी केपी यादव ने 584850 मत पाकर 1 लाख 60 हजार 82 मतों से जीत दर्ज की।

ऐसी चली चरणबद्ध मतगणना

लोकसभा चुनावों के घोषित परिणामों में जिले की तीनों विधानसभा क्षेत्रों से ज्योतिरादित्य सिंधिया को पराजय का सामना करना पड़ा और भारतीय जनता पार्टी के डॉ. केपी यादव को गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र से विजय दिलाने में जिले के मतदाताओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। तीनों विधानसभाओं से कांग्रेस प्रत्याशी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 48 हजार 5 सौ 34 मतों से विजय प्राप्त की। भाजपा प्रत्याशी डॉ. केपी यादव को इस जीत का सेहरा पहनाने में मुंगावली विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं ने सिंधिया को दिये मतों की अपेक्षा 15 हजार 6 सौ 34 मत अधिक दिये। वहीं अशोकनगर विधानसभा में 21 हजार 2 सौ और चन्देरी में 11 हजार 7 सौ मतों से भाजपा प्रत्याशी ने अपनी बढ़त बनाई।

20 साल बाद सिंधिया राजघराने को मिली हार

गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र को ग्वालियर के सिंधिया राजघराने का गढ़ माना जाता है, क्योंकि अब तक हुए उपचुनाव सहित 20 चुनाव में सिंधिया राजघराने के प्रतिनिधियों को 14 बार जीत मिली। ज्योतिरादित्य की दादी विजयराजे सिंधिया छह बार, पिता माधवराव सिंधिया चार बार और स्वयं ज्योतिरादित्य सिंधिया चार बार जीते हैं। गुना लोकसभा सीट पर पहला लोकसभा चुनाव 1957 में हुआ था। जिसमें ग्वालियर रियासत की राजमाता विजयाराजे सिंधिया ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ते हुए जीत हासिल की थी। 1967 में राजमाता विजयाराजे सिंधिया ने स्वतंत्र पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीतीं। 1971 में इस सीट से माधवराव सिंधिया ने जनसंघ के टिकट से चुनाव लडऩे का फैसला किया और जीत हासिल की। इसके बाद 1977 उन्होंने निर्दलीय चुनाव लडऩे का फैसला लिया और जीत का परचम लहराया। 1980 में माधवराव सिंधिया ने कांग्रेस की टिकट से चुनाव लड़ा और जीता भी, लेकिन इसके चलते परिवार में विवादों के बादल छा गए और मां-बेटे दोनों विरोधी पार्टी में शामिल हो गए। 1989 में राजमाता विजयाराजे सिंधिया ने बीजेपी की टिकट से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। जिसके बाद 1999 के चुनाव में बेटे माधवराव सिंधिया ने जीत हासिल की। 2001 में माधवराव की एक प्लेन हादसे में मौत होने के बाद उनके बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उनका कार्यभार संभाला और 2002 में उपचुनाव में जीत हासिल की। जिसके बाद 2009 और 2014 में उन्होंने लगातार गुना लोकसभा सीट से जीत हासिल की। ज्योतिरादित्य सिंधिया का यह पांचवां चुनाव था। इससे पहले वे चार चुनाव में यहां से लगातार जीत दर्ज कर चुके है।

परिणाम जानने टीव्ही से चिपके रहे लोग:12 मई के दिन ऐतिहासिक मतदान करने के बाद मतदाता अपने द्वारा दिये गये जनादेश को जानने के लिए 10 दिनों से इंतजार कर रहे थे। 23 मई की सुबह से ही लोग रिजल्ट जानने के लिए बेताब थे। मतगणना 8 बजे से होनी थी। इस कारण लोगों ने अपने काम 8 बजे से पहले निपटा लिए और टीव्ही के आगे जम गए। दोपहर बाद तक ज्यादातर लोग टेलीविजन सेट के आगे डटे रहे। लोगों में गुना संसदीय सीट का परिणाम जानने की काफी उत्सुकता थी। इसके अलावा लोग वाराणसी, अमेठी, बडोदरा आदि सीटों के रुझान जानने की कोशिश में लोग चैनल बदलते देखे गए।

भाजपा ने मनाया जीत का जश्र

चुनाव परिणाम से अतिउत्साहित भाजपा कार्यकर्ताओं ने ढोल ढमाकों के साथ आतिशबाजी चलाकर पार्टी की ऐतिहासिक जीत की खुशी मनाई। मोदी लहर के आंगे अच्छे-अच्छे किले ढहते नजर आये। गुना संसदीय क्षेत्र पर चौकाने वाले परिणाम आने के बाद यह उम्मीद स्वयं भाजपा भाजपा कार्यकर्ताओं को नहीं थी। वहीं एक ऐतिहासिक जीत ने भाजपा में वोट कर फिर प्रधानसमंत्री नरेन्द्र मोदी में विश्वाश जताया है। गुरुवार की सुबह से ही लोगों की निगाहें टीव्ही पर लगी हुई थी। जैसे ही परिणाम का रुझान लोगों को मिला तो भाजपा कार्यकर्ताओं का उत्साह बढ़ता गया। जब भाजपा की जीत के आंकड़े 1 लाख से अधिक पर पहुंचे तब भाजपा कार्यकर्ताओं ने आतिशबाजी फटाके और ढोल-ढमाकों के साथ मिठाईयां खिलाकर एक-दूसरे को खुशियां बांटी। प्रारंभिक दौर में ही भाजपा ने जो बढ़त बनाई थी वह बढ़त प्रत्येक राउण्ड में बढ़ती गई और एक मुकाम ऐसा आया जहां से लोगों का यह मानना निश्चित हुआ कि जीत निश्चित है, तब लोगों ने खुशियां मनाना शुरु कर दिया। भाजपा की ओर से जश्र मनाने वालों भाजपा जिलाध्यक्ष धर्मेन्द्र रघुवंशी सावन, डॉ. हरवीर रघुवंशी नपा उपाध्यक्ष, दिलीप रघुवंशी, तरुण रघुवंशी आदि कार्यकर्ताओं द्वारा भाजपा जिलाध्यक्ष के घर पर पहुंचे पटाखे चलाकर जश्र मनाया गया।