इस क्षेत्र में लोग पानी को सोने और चांदी के समान मानते हैं तथा ताला लगा के रखते हैं


(Photo Credit : ANI)

राजस्थान में पानी की भारी कमी और अनीयमित आपूर्ति के कारण जगह-जगह लोगों को पानी की समस्याओं से गुज़रना पड़ता है। ऐसे में भीलवाड़ा जिले के पारसरामपुरा गांव में लोग पानी के ड्रमों को ताला लगा कर रखते हैं ताकि कोई उनका पानी चोरी ना करले।

यहा के रहने वालों को कहना है कि पीने का पानी टैंकरों के माध्यम से यहां आता है जोकि 10 दिनों में एक बार आता है। तो पानी 10‌ दिनों तक चलाना होता है जिसके कारण हमें बूंद बूंद का ध्यान रखना पड़ता है ऐसे में हम ताला नहीं लगाएंगे तो कोई पानी ले जाएगा।

एक अंग्रेजी समाचार एजेंसी से बात करते हुए गांव की एक महिला ने बताया कि “हमारे गांव में पानी की बहुत कमी है। हम अपना पानी कन्टेनर्स में ताला लगा कर रखते हैं क्योंकि पानी 10 दिनों में 1 बार ही आता है तो हमें वही पानी 10 दिनों तक चलाना होता है। हमारे लिए यह सोने और चांदी के समान है।” दूसरी महिला ने कहा “अगर हम अपने पानी पर लगा कर नहीं रखते तो कोई इसे ले जाता है। और अगर हमारा पानी खत्म हो गया तो हम और हमारे बच्चे क्या पीयेंगे?”

जिला कलैक्टर राजेंद्र भट्ट ने क्षेत्र में चल रही पानी की तंगी को स्वीकारा और कहा कि इसका जल्द ही कोई उपाय निकाला जाएगा।

पारसरामपुरा में हमें पता चला है कि पानी एक हफ्ते में एक बार पहुंचता है। गांव को हिंदुस्तान ज़िंक द्वारा गोद लिया गया है कारण कि यह उनके मा‌इनिंग क्षेत्र के नजदीक है। उन्होने आश्वासन दिया कि पानी 2-3 दिन के अंतराल में एक बार भेजा जाएगा।