अलीगढ़ बच्ची हत्याकांड : जुआ खेलने का शौकीन था ‘दरिंदा’ जाहिद, दोस्त कहते थे सट्टा किंग


(PC : CatchNews.com)

नई दिल्ली (ईएमएस)। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम बच्ची की बेरहमी से हत्या करने के आरोप में जेल में बंद मोहम्मद जाहिद और मोहम्मद असलम को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है।

मासूम बच्ची के साथ दरिंदगी करने वाला मोहम्मद जाहिद जुआरी है। उसके दोस्त उसे सट्टा किंग के नाम से भी बुलाते हैं। वहीं मामले में दूसरा आरोपी मोहम्मद असलम बच्ची की बेरहमी से हत्या करने से पहले और भी कई वारदातों को अंजाम दे चुका है। मोहम्मद असलम को इससे पहले अपनी रिश्तेदार की बच्ची के यौन शोषण के आरोप में 2014 में गिरफ्तार किया गया था। दूसरा मामला दिल्ली के गोकुलपुरी का है। उस पर 2017 में छेड़छाड़ और अपहरण का मामला दर्ज हुआ था। इतना ही नहीं उसने करीब एक साल पहले अपनी पत्नी की पिटाई की थी। हालांकि लोगों ने बीच बचाव किया था।

अलीगढ़ की एसएसपी ने मीडिया को बताया कि मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया यगा है जिनमें आरोपी जाहिद और उसकी पत्नी भी शामिल है। बच्ची का शव जिस कपड़े में लिपटा हुआ पाया गया था वह जाहिद की पत्नी का ही था। एसएसपी ने बताया कि वे पीड़िता के परिवार के लोगों से मिले हैं और उन्होंने मांग की है कि आरोपियों को मृत्यु दंड दिया जाए। मामले में जल्द चार्जशीट फाईल की जायेगी।

इस केस में 5 पुलिसवालों को सस्पेंड भी किया जा चुका है। जिन पुलिसवालों का निलंबन किया गया है। आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छह सदस्यीय एसआईटी का गठन किया गया है। वहीं राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी है।

बता दें कि 30 मई की शाम को खेलते-खेलते मासूम बच्ची गायब हो गई थी। अगले दिन यानि 31 मई को घरवालों ने उसके लापता होने की शिकायत पुलिस से की। 2 जून को बच्ची की लाश उसी के घर के आसपास सड़ी गली हालत में कूड़े के ढेर में मिली। घरवालों का आरोप है कि पुलिस ने पूरे दो दिनों तक इस मामले में सुस्ती बरती। अगर उसने समय पर कार्रवाई की होती तो बच्ची की जान बच सकती थी।

मासूम बच्ची की लाश मिलने के बाद जब लोगों का गुस्सा फूटा तो पुलिस ने मुख्य आरोपी जाहिद को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का दावा है कि इसने 5 हजार रुपयों के लिए सबक सिखाने की धमकी दी थी और इसी ने बच्ची को मार डाला। बाद में पुलिस ने जाहिद के साथी को भी गिरफ्तार कर लिया। अब पुलिस इन आरोपियों पर पॉक्सो एक्ट लगाकर कार्रवाई में जुटी है। मामला तूल पकड़ने के बाद पुलिस ने एसपी क्राइम की अगुवाई में छह सदस्यीय एसआईटी टीम का गठन किया, जिसमें एसपी देहात मणिलाल पाटीदार टीम के प्रभारी हैं। जांच के लिए फॉरेंसिक लैब की भी मदद ली जा रही है।