सेना फिटनेस टेस्ट में फेल हुए 99 फ़ीसदी नौजवान


गंगा जमुना के दोआबा में जवान फिटनेस के मामले में बेहद खतरनाक दौर से गुजर रही है।99 फ़ीसदी नौजवान इस परीक्षा में असफल साबित हो गए।
Photo/Twitter

मेरठ। गंगा जमुना के दोआबा में बुजुर्ग भी नहीं बल्कि जवान भी फिटनेस के मामले में बेहद खतरनाक दौर से गुजर रही है। पिछले महीने हुई सहारनपुर में सेना भर्ती की दौड़ और शारीरिक दक्षता परीक्षा को करीब 1 फ़ीसदी नौजवान ही पास कर पाए। मतलब की 99 फ़ीसदी नौजवान इस परीक्षा में असफल साबित हो गए। कुल 87 हजार 244 नौजवानों द्वारा ऑनलाइन किए गए आवेदनों में से केवल 1066 ही पास हो पाए। जिसके बाद मेरठ स्थित भर्ती कार्यालय में 25 तारीख को पास होने वालों की लिखित परीक्षा आयोजित होगी। मेरठ सहारनपुर मंडल के युवाओं से मेरठ थल सेना भर्ती कार्यालय में सेना में भर्ती होने के लिए 20 सितंबर तक आवेदन मांगे। इसमें कुल 87 हजार 244 युवाओं ने आवेदन किया। 6 से 16 अक्टूबर तक भर्ती में से करीब 65000 ही पहुंचे। यानी कि लगभग 22000 युवक भर्ती में आवेदन के बावजूद दौड़ने का हौसला ना जुटा सके।

दौड़ में शामिल होने गए 80 फ़ीसदी युवाओं का दम दौड़ में ही फूल गया। दूसरी तरफ दौड़कर पास होने वालों में से 10 से 15 फ़ीसदी युवा सीने के माप के कारण बाहर हो गए। कई युवाओं के सपने हड्डियों की बीमारियां, फ्लैट फुट, खराब दांत और कान के परदे में छेद जैसी बीमारियों के चलते तोड़ दिए गए। साढ़े सत्रह से 23 वर्षीय युवाओं को 1.6 किलोमीटर की दौड़ 5 मिनट में पूरी करनी थी, परंतु केवल 10 फ़ीसदी युवा ही इस स्तर को पार कर पाए। जिसके बाद दौड़कर पास हुए युवकों की लंबाई, सीने की चौड़ाई, वजन आदि की माप हुई।

सेना में भर्ती के लिए सीने की चौड़ाई साथ 77 सेंटीमीटर होनी चाहिए और 5 सेंटीमीटर फुलाव के बाद 82 सेंटीमीटर। इसलिए कुछ युवकों के सीने के माप कम तो कुछ में फुलाव कम पाया गया। क्वालीफाई हुए अधिकांश अभ्यर्थी बीम और जंप में बाहर हो गए। वहीं इनमें से कई को सीने के माप और ऊंचाई के कारण निराशा का सामना करना पड़ा। इस विषय में सेना भर्ती निदेशक कर्नल कुलदीप कुमार ने बताया कि सेना को पूरी तरह से फिट नौजवानों की जरूरत होती है। जिसके लिए शारीरिक दक्षता और मेडिकल जांच पूरी गहनता से होती है। उन्होंने कहा कि यह बेहद चौंकाने वाली बात है कि जितनी भारी संख्या में आवेदन हुए उनके मुकाबले फिटनेस मानक पास करने वालों की संख्या बेहद कम रहीं।

–  ईएमएस