8 फर्जी कॉल सेंटरों का पर्दाफाश किया नोएडा पुलिस ने, करोड़ों की संपत्ति हुई उजागर


नोएडा पुलिस ने एक ही रात में 8 फ़र्ज़ी कॉल सेंटरों के काले कारोबार का खुलासा किया है। करोड़ों के कारोबार का ये खेल लंबे समय से चल रहा था।
Photo/Twitter

नोएडा। विदेशियों को अपनी लुभावनी बातों में उलझाकर करोड़ों की ठगी के मामले पर नोएडा पुलिस ने छापामार कार्रवाई करते हुए बड़ा खुलासा किया है। नोएडा पुलिस ने एक ही रात में 8 फ़र्ज़ी कॉल सेंटरों के काले कारोबार का खुलासा किया है। करोड़ों के कारोबार का ये खेल लंबे समय से चल रहा था। ये लोग अमेरिकी और कनाडा के नागरिकों के साथ ठगी करते थे। विदेशी नागरिकों को ये लोग खुद को माइक्रोसॉफ्ट के कर्मी बता कर अपने झांसे में लेते थे। पुलिस के एक बड़े अधिकारी का कहना है कि इन लोगों पर एनएसए के तहत कार्रवाई की जाएगी। कहा जा रहा है कि ठगी के पैसों से इन लोगों ने अकूत संपत्ति इकट्ठा कर रखी थी। ये कॉल सेंटर गौतमबुद्ध नगर जिले के अलग-अलग इलाके में चल रहे थे। जिनमें नोएडा सेक्टर 58, फेस थ्री, नोएडा सेक्टर 20, एक्सप्रेस-वे, इकोटेक के अलग-अलग सेक्टर शमिल हैं।

ज्ञात हो कि इससे पहले उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले के सेक्टर-63 के मकान में चल रहे अवैध कॉल सेंटर पर थाना फेस-3 व साइबर क्राइम की संयुक्त टीम ने छापेमारी और वहां से अवैध कॉल सेंटर के संचालक राजेंद्र खालसा और अभिषेक भारद्वाज समेत 31 लोगों को गिरफ्तार किया था। इन लोगों के कब्जे-निशानदेही पर 34 कम्प्यूटर सीपीयू, 34 मॉनीटर, 34 हेडफोन, 32 माउस आदि अन्य उपकरण चेकबुक, एटीएम कार्ड आदि बरामद हुए थे। पकड़े गए दोनों कॉल सेंटर संचालक गुजरात के रहने वाले हैं। वहीं ज्यादातर कर्मचारी नगालैंड के दीमापुर जिले के निवासी हैं। ये लोग कॉल सेटर की आड़ में विदेशी नागरिकों का डाटा अवैध रूप से हासिल कर टैक्स में छूट दिलाने का लालच और किसी के विरोध करने पर पुलिस का डर दिखाकर धमका कर हर रोज लाखों रुपये ऑनलाइन मंगवाकर हड़प रहे थे।

– ईएमएस