वाराणसी में मलबे से अब तक निकले 185 शिवलिंग


उत्तर प्रदेश के वाराणसी में लंका थाना क्षेत्र के रोहित नगर कॉलोनी के एक प्लाट से 185 शिवलिंग निकले हैं।
Photo/Twitter

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के वाराणसी में लंका थाना क्षेत्र के रोहित नगर कॉलोनी के एक प्लाट से गुरुवार को भी 16 शिवलिंग निकले हैं। इस प्लाट से बुधवार की सुबह 126 और रात में 43 शिवलिंग निकले थे। इस प्रकार यहां पाए जाने वाले कुल शिवलिंगों की संख्या 185 हो गई है।

सभी शिवलिंग सूचीबद्ध करके लंका थाने में रखवाए गए हैं। रोहित नगर में लगातार दूसरे दिन भी मजमा लगा रहा। कॉलोनी में रहने वालों के लिए यह भीड़ भी किसी कौतूहल से कम नहीं थी। आमतौर पर खाली रहने वाली कॉलोनी की सड़कों पर वाहनों की भीड़ पूरे दिन लगी रही। कॉलोनी के लोगों का ध्यान प्लॉट पर कम और प्लॉट पर मलबा देखने आ रही भीड़ पर अधिक था। सपा कार्यकर्ताओं ने पार्षद कमल पटेल के नेतृत्व में पूरे दिन मौके पर धरना दिया। स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि बाद में मिले शिवलिंगों की सूची बना कर उन्हें भी पुलिस को सुपुर्द कर दिया गया है।

उधर, बजरंग दल के प्रतिनिधि मंडल ने गुरुवार को डीएम आवास पर जाकर उन्हें शिवलिंग प्रकरण की जांच कराने संबंधी ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल से बातचीत में जिलाधिकारी ने आशंका जाहिर की कि किसी शरारती तत्व ने विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर योजना को विफल करने के उद्देश्य से मलबे में शिवलिंग फेंका है। मामले की उच्चस्तरीय जांच कराई जा रही हैं।
मंदिर बचाओ अभियानम् के संरक्षक स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने कहा है कि काशीवासी होने के नाते मेरा यह अधिकार है कि मैं यह जान सकूं कि रोहितनगर कॉलोनी के प्लाट में मलबे के साथ फेके गए शिवलिंग कहां के हैं। उन्होंने हाईकोर्ट के जज की अगुवाई में मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।

वह केदारघाट स्थित श्रीविद्या मठ में पत्रकारों से बात करते हुए स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि कुछ लोग दुष्प्रचार कर रहे हैं कि मैं खंडित शिवलिंगों का पूजन कर धर्म विरुद्ध कार्य कर रहा हूं। काशीखंड के 73वें अध्याय के 24वें एवं 25वें श्लोक में स्पष्ट है कि काशी में शिवलिंग किसी भी दशा में पूजनीय है। उन्होंने कहा रोहितनगर में मिले शिवलिंगों की पूजा थाने में सुबह-शाम हो रही है। धर्मसंघ के एक ब्राह्मण को बुलाकर मठ के प्रतिनिधि के समक्ष पूजन किया जा रहा है।

– ईएमएस