पश्चिम बंगाल : ये है डिजिटल इंडिया का सबसे सही उदाहरण, ज़ूम पर करेंगे शादी, ज़ोमटो से खिलाएंगे मेहमानों को खाना

प्रतिकारात्मक तस्वीर

कोरोना की वजह से शादी नहीं कर सके इस कपल ने सरकार की गाइडलाइन और कोरोना संक्रमण के चलते कपल ने किया डिजिटल तरीके से शादी करने का फैसला

देश भर में एक फिर कोरोना के मामले बढ़ने के साथ शादी-विवाह जैसे कार्यक्रमों के आयोजन को प्रतिबंधित कर दिया गया है। साथ ही कोरोना काल में शादियों जैसे आयोजनों के लिए मेहमानों की संख्या सीमित है। इसी बीच पश्चिम बंगाल में एक अनोखी शादी होने जा रही है।
आपको बता दें कि आज के युग को डिजिटल युग माना जाता है। यहां पैसे से लेकर मीटिंग और सार्वजनिक पेशकश तक सब कुछ डिजिटल रूप से किया जाता है। आज के समय आपको घर बैठे-बैठे अपने मनपसंद रेस्टोरेंट से खाना माँगा सकते है, घर बैठे बैठे ही आपकी शॉपिंग की जा रही है और घर का बिल भी घर बैठे बैठे भर दिया जाता है। ऐसे में अगर सब कुछ डिजिटल रूप से संभव हो रहा है तो क्या ऐसे  शादी भी हो सकता है? कोरोना के बीच पश्चिम बंगाल के एक जोड़े ने डिजिटल शादी की योजना बनाई है, जिसका मतलब है कि कोरोना के नियमों का शत-प्रतिशत अनुपालन और शत-प्रतिशत आनंद।
बता दें कि कोरोना की वजह से शादी नहीं कर सके इस कपल ने सरकार की गाइडलाइन और कोरोना संक्रमण के चलते कपल ने डिजिटल तरीके से शादी करने का फैसला किया। उन्होंने 300 से अधिक मेहमानों को आमंत्रित किया है। हालांकि ये सभी किसी हॉल या बैंक्वेट में नहीं मिलते। ये सभी मेहमान गूगलमीट पर एकत्रित होंगे। वहां वे लाइव टेलीकास्ट के जरिए शादी में शामिल होंगे। दंपति ने प्रत्येक अतिथि को उनके घर पर भोजन पहुंचाने का भी फैसला किया। Zomato के जरिए मेहमानों के घरों में खाना पहुंचाया जाएगा। मेहमान आराम से भोजन करते हुए लाइव वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शादी समारोह में शामिल हो सकेंगे।
जोड़े की शादी में शामिल होने के लिए अगले दिन आमंत्रित लोगों को लिंक और पासवर्ड भेजा जाएगा। इससे वे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शादी में शामिल हो सकेंगे। तो वाकई इस तरह की शादी कोरोना महामारी के बीच एक मिसाल साबित होगी। शादी कोरोना के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किए बिना मनाई जाएगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें