एसटी बस में लाखों के हीरे और नगदी की चोरी की शिकायत हुई, आरोपी कौन निकले ये जान का आप भी चौंक जायेंगे!

शिकायत करने वाला ही निकला आरोपी, खुद ही बैग गायब करने का प्लान बनाया था, पुलिस जांच में सामने आई सच्चाई

अभी हाल ही में मोरबी में दो लोगों ने पुलिस को सूचना दी थी कि भुज राजकोट रूट की एसटी बस में आ रहे अंगड़िया फर्म के कर्मचारियों से रास्ते में 30 लाख नकद और गहनों समेत 40 लाख रुपये संपति से भरा बैग लूट लिया गया है। घटना में एलसीबी की टीम ने गहन जांच के बाद दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इस घटना में शिकायत करने वाले ही असली आरोपी पाए जाने के बाद हड़कंप मच गया है।
जानकारी के अनुसार भुज राजकोट रूट की एसटी बस में महेंद्र प्रवीण अंगड़िया फर्म राजकोट के दो कर्मचारी अलग अलग चीजों को कुल तीन बैग में लेकर भुज से राजकोट आ रहे थे। इसमें  कुल मूल्य 40 लाख की संपत्ति थी जिसमें 30 लाख नगद और 10 लाख की चांदी थी। जब वो मोरबी पुराने बस स्टैंड पर पहुंचे तो उन्होंने पुलिस कब पास किसी अज्ञात व्यक्ति ने बैग चुरा लेने की बात कही। लिहाजा, संभागीय पुलिस के अलावा एलसीबी की टीम ने घटना की जांच शुरू कर दी।
एलसीबी टीम को अंगदिया फर्म के कर्मचारियों की संलिप्तता के बारे में जानकारी मिली तो पूछताछ करने पर दोनों टूट गए और कबूल किया कि दोनों ने ही बैग गायब करने की साजिश रची थी। जिसमें अन्य आरोपित सिद्धराजसिंह सरतनजी परमार निवासी कोसा जी पाटन वाला को शामिल कर आदिपुर बस स्टैंड पर बुलाया गया। वह भी भुज राजकोट रूट वाली बस में बैठा. वह भचाऊ बस स्टैंड पर नकदी से भरा बैग और भचाऊ टिकट लेने के बाद दिए गए सोने-चांदी के आभूषणों का एक पार्सल लेकर उतर गया। इस इकरारनामा के बाद एलसीबी की टीम ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। इन दोनों आरोपियों का नाम आनंदजी हमीरजी परमार, जक कि अंगदिया फर्म का एक कर्मचारी, और अजितसिंह नाथजी परमार, सबोसन है। जबकि फरार आरोपी पाटन वाला कोसागाम निवासी सिद्धराज सिंह सरतनजी परमार को पकड़ने के लिए पुलिस ने कोशिश तेज कर दी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें