कहावत है, ‘शेर हमेशा अकेला चलता है!’ लेकिन यहां शेरों की भीड़ देखिये!

एक कहावत है कि शेर कभी झुण्ड में नहीं रहता! लेकिन गिर के जंगलों में कभी-कभार शेरों के झुंड कैमरे में कैद हो जाते हैं। हाल ही में एक बार फिर एक शेर का आराम कर रहा परिवार कैमरे में कैद हो गया है। तस्वीर में एक शेर परिवार को चिलचिलाती गर्मी में आराम करते हुए दिखाया गया है। गिर सफारी की डेडकाडी रेंज 13 सिहो के परिवार के दृश्यों को दर्शाती है।
उल्लेखनीय है कि गर्मी के मौसम में वन विभाग द्वारा जंगल में कृत्रिम जल बिंदु स्थापित किए जाते हैं। जहां टैंक से पानी फैलता है, वहीं ठंडी आसपास की मिट्टी में फैल जाती है। इन्हीं सब के बीच शेर का एक परिवार ठंड में विश्राम करते नजर आ रहा है।
शेरों के झुंड आमतौर पर दुर्लभ होते हैं। गिर अभयारण्य आमतौर पर एकान्त शेरों का घर है, लेकिन एक बार में 13 शेरों को देखना एक अविस्मरणीय दृश्य है। पता चला है कि शेरों के इस झुंड में पांच शेर, एक नर और आठ शावक है। इन शेरों में तीन सगी बहनें हैं। कहा जाता है कि यहां शेरों का झुंड नहीं होता लेकिन यहां एक बार में कम से कम 13 शेर आराम करते नजर आते हैं।
गुजरात देश का एकमात्र राज्य है जहां एशियाई शेरों की आबादी है। पिछले साल जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में शेरों की आबादी बढ़कर 674 हो गई है। 2015 में यह संख्या 529 थी। यानी पांच साल में शेरों की आबादी 29 फीसदी बढ़ी है। गौरतलब है कि राज्य में शेरों के घूमने का क्षेत्रफल इस समय करीब 30 हजार वर्ग किलोमीटर है। सिंहों के विस्तार क्षेत्रों में चोटिला, सायला, अमरेली, भावनगर आदि शामिल हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें