मोबाइल गेम के चक्कर में बच्चे ने कर ली खुदकुशी, पहले भी किया था प्रयास

चचेरे भाई के साथ टीवी देख रहा था, भाई के नीचे जाने के बाद कर ली आत्महत्या

आजकल के बच्चे अंदर मोबाइल गेम खेलने की बुरी लत काफी हो चुकी है। गेम खेलने के चक्कर में बालक अपनी पढ़ाई तथा अन्य जरूरी चीजें भी भूल जा रहे हैं। यही नहीं गेम खेलने पर मना करने पर वह काफी क्रोधित तथा चिड़चिड़ा हो जाते है। यहीं नहीं मना करने पर कई बार तो बालक ऐसा काम कर लेते है। जो कभी किसी ने सपने में भी ना सोचा हो।

ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से सामने आया है। जहां पांचवी क्लास के एक छात्र ने फांसी लगाकर खुद आत्महत्या कर ली। आत्महत्या करने वाले बच्चे के माता-पिता का कहना है कि उनके बालक को मोबाइल में फ्री फायर गेम खेलने का काफी शौक था। यही नहीं मोबाइल के अलावा वह टीवी में भी पूरा दिन गेम खेलते रहता था। बे टे पर गेम का जुनून कुछ इस कदर था कि वह बिना किसी को बताए ही ऑनलाइन माध्यम से मोबाइल गेम में इस्तेमाल होने वाले ड्रेस भी मंगवा लेता था।
न्यूज वेबसाइट tv9भारतवर्ष को खबर के अनुसार, सूर्यांश नामक यह बालक सेंट जेवियर स्कूल की पांचवी क्लास में पढ़ता था। जब बुधवार को वह अपने चचेरे भाई आयुष के साथ दूसरी मंजिल में बैठकर टीवी में फिल्म देख रहा था, तभी किसी काम से आयुष नीचे आया। जब वह वापस पहुंचा तो उसने देखा कि सूर्यांश से बॉक्सिंग रिंग में रस्सी के फंदे पर लटका हुआ है।
सूर्यांश को लटका हुआ देखकर उन्होंने फौरन उनके परिजनों को सूचना दी। सूर्यांश के परिजन तुरंत ही सूर्यांश को लेकर अस्पताल पहुंचे। हालांकि अस्पताल पहुंचने के पहले ही काफी देर हो चुकी थी और रास्ते में ही सूर्यांश की मौत हो गई। सूर्यांश के पिता ने बताया कि बच्चा पूरा पूरा दिन मोबाइल में गेम खेलने में बिता देता था। जिसके चलते वह काफी डांट भी सुनता था पर उसके बावजूद वह की नहीं सुनता था। फिलहाल पुलिस द्वारा सूर्यांश के मोबाइल की जांच की जाएगी पुलिस यह पता लगाने की कोशिश करना चाहती है कि कहीं उसे गेम में इस तरह का कोई टारगेट तो नहीं दिया गया।
उल्लेखनीय है कि 3 महीने पहले भी सूर्यांश ने आत्महत्या करने का प्रयास किया था। वह फांसी लगाने की तैयारी कर ही रहा था कि तभी उसकी मां आ गई और उन्होंने सूर्यांश को ऐसा करने से रोका तथा काफी फटकार भी लगाई।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें