टेक्नोलॉजी : मस्क ने जो कहा वो कर दिखाया, टेस्ला ने किया एआई इवेंट में अपने ह्यूमनॉइड रोबोट ओप्टीमस को लॉन्च

लौन्चिंग इवेंट में रोबोट के प्रोटोटाइप को स्टेज पर चलते और दर्शकों के सामने हाथ हिलाते देखा गया, इंसानों जैसे काम करने में सक्षम

एलन मस्क का नाम दुनिया के सबसे रईस आदमी के रूप में ही नहीं, बल्कि नए नए विचारों को पोषित करने और नई-नई टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देने के लिए भी लोकप्रिय हैं. मस्क अक्सर भविष्य को बेहतर बनाने के लिए टेक्नोलॉजी की निर्माण करने की बात करते हैं. एलन मस्क इंसानों को मंगल ग्रह पर बसाने का सपना देखते हैं। टेस्ला और स्पेसएक्स जैसी कंपनियां खड़ी करने वाले मस्क की टेस्ला ऑटो पायलट कारें इसका सबसे अच्छा उदाहरण है कि कैसे मस्क और उनकी कंपनी टेस्ला भविष्य को बेहतर बनाने की दिशा में काम कर रही है. अब इसी कड़ी में शुक्रवार को मस्क ने एक एआई इवेंट में अपने ह्यूमनॉइड रोबोट ओप्टीमस को लॉन्च किया. इस लॉन्च के साथ वो कर दिखाया जिसके बारे में दुनिया महज कल्पना ही कर रही हैं. 

बिल्कुल इंसानों जैसा व्यवहार करता है ये हुमनोइड


आपको बता दें कि इस हुमनोइड को लेकरअमेरिका के अरबपति बिजनेसमैन ने कहा कि रोबोट बिजनेस उनके कार व्यवसाय की तुलना में ज्यादा सफल होगा। इस लौन्चिंग इवेंट में रोबोट के प्रोटोटाइप को स्टेज पर चलते और दर्शकों के सामने हाथ हिलाते देखा गया। लोगों को एक वीडियो भी दिखाया गया जिसमें रोबोट बॉक्स उठाते, पौधों को पानी देते और इंसानों जैसे काम करते नजर आया। कैलिफोर्निया के टेस्ला ऑफिस में आयोजित समारोह में मस्क ने कहा कि हमारा उद्देश्य जल्द से जल्द उपयोगी ह्यूमनॉइड रोबोट बनाना है।

क्या-क्या कर सकता है ये रोबोट


अपने हुमनोइड के बारे में एलन मस्क का कहना है कि शुरुआत में ऑप्टिमस टेस्ला के कारखानों में चीजों को इधर-उधर करने और रिंच के साथ कार के बोल्ट कसने जैसे खतरनाक काम करेगा। मस्क का कहना है कि भविष्य में इन रोबोट्स को घर के कामों और यहां तक सेक्स पार्टनर के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकेगा।

कब से शुरू हो सकता है उत्पादन


गौरतलब है कि पिछले साल अगस्त में ही एआई इवेंट में मस्क ने टेस्ला की ह्यूमनॉइड रोबोट बनाने की योजनाओं के बारे में बताया था और साल भर के साथ ही अपने इस प्रोटोटाइप को प्रस्तुत कर दिया. इस प्रोटोटाइप को अंतिम रूप देने के लिए उन्होंने इवेंट को अगस्त के बजाय सितंबर के आखिर में आयोजित किया गया। ऐसा अनुमान है कि इस हुमनोइड का उत्पादन अगले साल से शुरू कर सकते हैं। रोबोट के लिए सबसे महत्वपूर्ण टेस्ट यह है कि क्या वह अप्रत्याशित परिस्थितियों को संभाल सकता है। एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी में रोबोटिक्स के प्रोफेसर हेनी बेन अमोर ने कहा कि इंसानों जैसे हाथों का निर्माण करना जो चीजों को रख और उठा सकें, बेहद चुनौतीपूर्ण है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें