सूरतः कोरोना के डर से आत्महत्या करने वाले सेवानिवृत्त पुलिस कर्मी की रिपोर्ट पॉजीटिव

टीके की दूसरी खुराक लेने से सेवानिवृत्त पुलिस कर्मी ने आत्महत्या कर ली। (फाइल फोटो)

वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने से पहले मानसिक तनाव में आकर आत्महत्या कर ली

शहर के नानपुरा में रहने वाले एक सेवानिवृत्त वृद्ध पुलिस कर्मी ने कोरोना होने  के डर से फांसी लगाकार आत्महत्या करने के बाद परिवार शोक में है। इतना ही नहीं, बल्कि उनकी मृत्यु के बाद, उनके कोरोना का रैपिड टेस्ट पॉजीटिव आने पर आगे की जांच की जा रही है। मृतक हरकिशनभाई अपने दोस्त विजय के साथ कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज लेने जाने वाले थे। हालांकि, यह पता चला कि मानसिक तनाव के कारण उसने फांसी लगाकर आत्म कर ली है। 
 मृतक हरकिशनभाई के दामाद विजय भगवागर  ने कहा कि वह पिछले तीन महीनों से मानसिक तनाव से पीड़ित थे। चार विवाहित बेटियाँ समय-समय पर मिलने आती थी और माँ को पिता की देखभाल करने की सलाह भी दी। हालांकि, उसने अचानक ऐसा कदम उठा लिया। 
पूर्व नगरसेवक विजय मास्टर ने कहा कि हम खास दोस्त हुआ करते थे।" पहला टीका भी साथ में लिया गया था।  वैक्सीन की दूसरी खुराक  लेने  के लिए मंगलवार को  4 बजे निकलने वाले थे। उसका फोन नहीं आया तो मैं घर पहुँच गया। भाभी से  पूछा, हर किशन कहाँ है। तो उसने कहा, देखूं इधर-उधर होंगे।  जहां मैं गया तो देखा कि मेरा दोस्त एक नायलॉन की रस्सी से फांसी लगी हालत में पड़ा था। मेरी चिल्लाना सुनकर भाभी और पड़ोसी दौड़कर मौके पर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी।
हरकिशनभाई पुलिस आयुक्त कार्यालय में वरिष्ठ क्लर्क के रूप में सेवा देने के बाद सेवानिवृत्त हुए थे। उन्होंने चार बेटियों की शादी की और अपनी पत्नी के साथ खुशहाल जीवन व्यतीत करते थे। पिछले कुछ महीनों से मुझे कोरोना हो जायेगा तो क्या होगा, ऐसी चिंता करते थे।  मानसिक तनाव के कारण आत्महत्या करने वाले दोस्त हरकिशन ने अपने सभी दोस्तों को रोते हुए छोड़ दिया। मैं बस लोगों से अपील करूंगा कि आत्महत्या किसी बीमारी का इलाज नहीं है। लेकिन परिवार को रोते और उदास छोड़ने का कोई तरीका नहीं है। दोस्तों से बात करके सभी तनाव से छुटकारा पाया जा सकता है। मैं प्रभु से प्रार्थना करूंगा कि  मेरे दोस्त ने जो भूल की है, दूसरा कोई ऐसी गलती न करे। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें