सूरत : 13 मई से खोल दो मार्केट; कैट की मुख्यमंत्री से गुहार

सूरत में कोरोना संकट काल के दौरान लॉकडाउन की फाइल तस्वीर

कोरोना के कारण पिछले 10 दिनों से शहर का व्यापार उद्योग बंद है। जिसके चलते व्यापारियों को बड़ा नुकसान हो रहा है। परिस्थिति को समझते हुए कॉन्फिडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल और गृहमंत्री प्रदीप सिंह जाडेजा को सभी बाजारों को खोलने की मांग की है। एक महीने से मीनी लॉकडाउन के कारण व्यापारी मुसीबत में है। किसी भी प्रकार की इनकम नहीं हो रही है। जबकि श्रमिकों का वेतन, दुकान का भाड़ा, लाइट बिल, बैंक ब्याज सहित कई तरह के खर्च उनसे जुड़े हुए हैं। मीनी लॉकडाउन के कारण पिछले 10 दिनों से अधिक समय से व्यापार बंद होने के कारण कई वस्तुओं की आपूर्ति पर भी असर पड़ी है।
रिटेल सेक्टर बंद होने से रियल एस्टेट भी बंद
 सरकार ने रियल एस्टेट क्षेत्र को चालू तो रखा है लेकिन उन्हें स्टील,सीमेंट,सिरामिक सहित की जो चीजें होती है वह दुकानें बंद होने के कारण रियल स्टेट को भी बंद करने की नौबत आई है। इसी तरह से गर्मी के दिनों में एसी फ्रिज कूलर आदि की बिक्री होती है लेकिन इलेक्ट्रॉनिक शोरूम बंद होने के कारण वह भी मुसीबत में है। मार्च महीने में बड़ी-बड़ी कंपनियां अपना टार्गेट हांसलि करने के कारण रिटेलर के पास माल डम्प कर देते हैं। इससे रिटेलक के पास स्टॉक हो गया है। इस बारे में केट के गुजरात चैप्टर के प्रमुख प्रमोद भगत ने कहा कि हाई कोर्ट ने निर्देश दिया था कि व्यापार को नुकसान नहीं हो इस तरह से राज्य सरकार निर्णय करें लेकिन मिनी लॉकडाउन के कारण व्यापार उद्योग को तगड़ा नुकसान हो रहा है। इसलिए प्रशासन को 13 तारीख से तभी व्यापार उद्योग शुरू कर देना चाहिए। दूसरी ओर कपड़ा व्यापारियों के संगठन फेडरेशन ऑफ सूरत टैक्सटाइल ट्रेडर्स भी 13 तारीख से कपड़ा मार्केट शुरू करने की मांग की है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें