सूरतः वैवाहिक समारोहों पर कोरोना का ग्रहण, 9,000 शादियां रुकी

कोरोना संक्रमण शादी प्रसंग रद्द

इवेंट मैनेजमेंट कंपनियों को करोड़ों का नुकसान, शादी प्रसंग रद्द होने से इवेन्ट कंपनियों से जुड़े लोगों पर विपरीत असर

कोरोना संक्रमण के हाहाकार मचाने से वैवाहिक समारोहों पर भी ग्रहण लग गया है। सूरत जिले में तकरीबन 9 हजार शादियां स्थगित कर दी गई हैं। इसलिए प्रबंधन एजेंसियों को लगभग 200 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। अगर नवंबर तक हालात ऐसे ही रहे तो नुकसान 500 करोड़ रुपये तक हो सकता है। शादी समारोहों के स्थगित होने से 30,000 से अधिक लोग अपनी नौकरी खो चुके हैं।
दक्षिण गुजरात में इवेंट इंडस्ट्री द्वारा आयोजित 20 हजार शादियों को स्थगित कर दिया गया है। इसलिए इवेंट मैनेजमेंट एजेंसियों को 650 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। कोरोना के कारण लोग जून तक शादी स्थगित कर रहे हैं। इवेंट इंडस्ट्रीज में शामिल 30,000 से अधिक लोगों ने अपनी नौकरी खो दी है, जिनमें इवेंट मैनेजर, खानपान, बैंड और शादी से जुड़ी अन्य सेवाएं शामिल हैं। जून से अनेक एक्जीबिशन शुरु होते हैं।  यदि कोरोना की वजह से हालात ऐसे ही रहे तो नवंबर तक 500 करोड़ रुपये का नुकसान होने की उम्मीद है।
गौरव जरीवाला ने कहा, "इवेंट इंडस्ट्री छोटी दिखती है।" लेकिन बड़ी संख्या में लोग शामिल हैं। इन सभी लोगों के अलग-अलग काम हैं। कोरोना और रात के कर्फ्यू के कारण इन उद्योगों की हालत खराब हो गई है। कोई भी इन उद्योगों पर पर्याप्त ध्यान नहीं देता है। अगर सरकार ने समय रहते इन उद्योगों के बारे में नहीं सोचा तो इन उद्योगों से जुड़े लोगों की हालत बिगड़ जाएगी। पहले अलग-अलग इवेंट्स से 10 कॉल आते थे लेकिन अब मुश्किल से दो कॉल होते हैं।
दक्षिण गुजरात इवेंट मैनेजमेंट एसोसिएशन के सचिव प्रकाश हाथी ने कहा कि हाल में बहुत नुकशान सहन करने का बारी आई है। बड़ी शादी समारोहों को रद्द कर दिया गया है। छोटे- बड़े शादियों में लागत निकालना  भी मुश्किल है। एडवांस लिया है उसका  क्या करना है, इस बारे में भ्रम है। गत लॉकडाउन के बाद, गाड़ी पटरी से उतर गई है। फिर से वही स्थिति है। कई लोगों ने व्यवसाय छोड़ दिया और  सैनिटाइज़र और चाय नाश्ते की दुकान शुरू की।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें