स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में कम्यूटर साइंस की पढाई छोड़ शुरू किया अपना स्टार्ट-अप, कोरोना काल में भी जुटाए 450 करोड़ रुपये की फंडिंग

(Photo Credit : divyabhaskar.co.in)

यंग एंटरप्रेन्योर्स आदिल पालिचा और कैवल्य वोहरा की सफलता की कहानी उन्हीं की जुबानी.!

महज 19 साल की उम्र में दो दोस्तों ने अपना बिजनेस शुरू करने की कोशिश की। इसके लिए उन्होंने अमेरिका के प्रतिष्ठित स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में कम्यूटर साइंस भी छोड़ दिया। कई सरे स्टार्टअप एक साल से भी कम समय में शुरू हो जाते हैं, हालांकि बड़े और अच्छी तरह से वित्त पोषित स्टार्टअप को स्थापित होने में कई साल लग जाते हैं। हाल ही में उनके स्टार्टअप जेप्टो ने 450 करोड़ रुपये की फंडिंग जुटाई है। हम बात कर रहे हैं यंग एंटरप्रेन्योर्स आदिल पालिचा और कैवल्य वोहरा की। जानिए उनकी सफलता की कहानी उन्हीं की जुबानी.!
जानकारी के अनुसार स्टैनफोर्ड में प्रवेश एक सपने के सच होने जैसा लग रहा था लेकिन लक्ष्य एक व्यवसाय शुरू करना था। इसलिए उन्होंने कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई छोड़ दी। इस कदम पर परिवार ने बहुत सुनाया भी हालांकि, कारोबार को बढ़ता देख वह भी खुश थे। जैसा कि हमने कोरोना की पहली लहर में देखा, हमें जीवन की जरूरतों के लिए कड़ा संघर्ष करना पड़ा। अधिकांश ग्रोसरी डिलीवरी ऐप्स को डिलीवर होने में 3-4 दिन लगते हैं। हम जैसे कुंवारे लोगों के लिए इतना लंबा इंतजार करना मुश्किल था। तब मैंने सोचा कि लोगों का क्या होगा। तभी आइडिया क्लिक कर गया। हमें लगा कि देश में क्यू-कॉमर्स (क्विक कॉमर्स) का भविष्य सुनहरा है। तब ग्लैड ब्रुक कैपिटल जैसे निवेशकों ने हमारी उम्र पर नहीं, बल्कि व्यवसाय की मूल बातों पर ध्यान केंद्रित किया। इसी कारण हाल के दौर में भी कंपनी का बाजार मूल्य रु 2250 करोड़ तक पहुँच गया है। 
इस स्टार्ट अप में सभी ऑर्डर 10 मिनट से भी कम समय में डिलीवर हो जाते हैं, जबकि कुछ में केवल 15 से 16 मिनट लगते हैं। वर्तमान में हम केवल मुंबई, दिल्ली, बैंगलोर और एनसीआर में हैं। हमने 2000 वस्तुओं का चयन किया है जिनकी सबसे अधिक आवश्यकता है। इसमें नाश्ता, भोजन, पान, मुखवास और पूजा के फूल हैं। हमारे स्टोर के प्रवेश द्वार पर 100 से अधिक आइटम हैं। ताकि पैकिंग और डिलीवरी में समय न लगे। किराना डिलीवरी बाजार 200 प्रतिशत की वार्षिक दर से बढ़ रहा है। जबकि मिनट किराना डिलीवरी सेगमेंट में 75,000 करोड़ रुपये के स्टार्टअप उत्पन्न करने की क्षमता है ... ऐसा लगता है कि स्टैनफोर्ड छोड़ने का हमारा निर्णय गलत नहीं था। - आदित्य, कैवल्य।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें