खेल : भारतीय पुरुष बैडमिंटन टीम ने रचा इतिहास, 73 साल में पहली बार जीता थॉमस कप

भारतीय पुरुष बैडमिंटन टीम की ऐतिहासिक जीत के बाद केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने भारतीय टीम को एक करोड़ रुपये का नकद पुरस्कार देने की घोषणा की

आज भारतीय पुरुष बैडमिंटन टीम ने इतिहास रचते हुए 14 बार के विजेता इंडोनेशिया को हराकर 73 साल में पहली बार थॉमस कप जीता। पहली बार फाइनल मुकाबला खेल रहे भारत ने इंडोनेशियाई टीम को 3-0 से मात दी। पांच मुकाबलों की इस खिताबी जंग में भारत ने लगातार तीन जीत हासिल कीं। इनमें दो सिंगल्स और एक डबल्स शामिल है। 
इससे पहले फाइनल के दूसरे मुकाबले में सिंगल्स जीतने बाद डबल्स मैच जीता। चिराग शेट्टी और सात्विक साईराज रंकीरेड्डी की भारतीय जोड़ी ने पहला गेम गंवाया फिर दूसरा और तीसरा गेम जीत मुकाबला अपने नाम किया। इसके बाद अनुभवी किंदाबी श्रीकांत ने जीत में अहम भूमिका निभाई। वर्ल्ड नंबर-11 श्रीकांत ने अपने से ज्यादा रैंकिंग वाले जोनाथन क्रिस्टी को सीधे गेम में 21-15, 23-21 से हराया। यह मुकाबला 48 मिनट चला। पहले सिंगल्स में लक्ष्य सेन ने एंथोनी सिनिसुका गिनटिंग को 8-21, 21-17, 21-16 से हराया। उसके बाद लक्ष्य ने शानदार वापसी करते हुए दूसरा गेम अपने नाम कर लिया। उन्हें 21-17 से जीत मिली। उसके बाद तीसरे गेम को भी 21-16 से जीत कर भारत को 1-0 से बढ़त दिलाई। डबल्स के पहले गेम में चिराग शेट्टी और सात्विक को हार मिली। इंडोनेशिया की मोहम्मद अहसन और केविन संजया सुकामुलजो की जोड़ी ने गेम (सेट) को 17 मिनट में 21-18 से अपने नाम किया। चिराग शेट्टी और सात्विक साईराज रंकीरेड्डी ने दूसरे गेम में वापसी करते हुए मोहम्मद अहसन और केविन संजया सुकामुलजो की जोड़ी को 23-21 से हराया। इसके बाद तीसरा गेम 21-19 से जीत कर मुकाबला अपने नाम कर लिया।
इस ऐतिहासिक जीत के बाद भारतीय पुरुष बैडमिंटन टीम पर इनाम की बारिश हो गई। केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने पहली बार थॉमस कप 2022 जीतने पर भारतीय टीम को एक करोड़ रुपये का नकद पुरस्कार देने की घोषणा की है। यह पहला मौका है जब खेल मंत्रालय ने ओलिंपिक, एशियन और कॉमनवेल्थ गेम्स के अलावा कोई बैडमिंटन टूर्नामेंट जीतने पर इनाम घोषित किया है। अनुराग ठाकुर ने भारतीय विजेता टीम के लिए ईनाम की घोषणा करते हुए लिखा, जैसा कि भारतीय ने 14 बार के थॉमस कप चैंपियंस इंडोनेशिया (3-0) को हराकर अपना पहला पहला थॉमस कप जीता है। इस अद्वितीय उपलब्धि को स्वीकार करने के लिए टीम को ₹1 करोड़ के नकद पुरस्कार की घोषणा करते हुए गर्व हो रहा है! इससे पहले उन्होंने टीम को बधाई देते हुए ट्विटर पर लिखा, भारतीय पुरुष बैडमिंटन टीम को थॉमस कप जीतने पर बधाई! मलेशिया, डेनमार्क और इंडोनेशिया पर लगातार जीत के साथ यह असाधारण उपलब्धि राष्ट्र द्वारा समान सम्मान की मांग करती है।
वहीं देश के पीएम नरेंद्र मोदी ने भी भारतीय विजेता टीम को बधाई दी। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, भारतीय बैडमिंटन टीम ने इतिहास रचा! भारत के थॉमस कप जीतने से पूरा देश उत्साहित है! हमारी कुशल टीम को बधाई और उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं। यह जीत कई आगामी खिलाड़ियों को प्रेरित करेगी।
गौरतलब है कि अब तक 32 बार थॉमस कप हुआ है और केवल पांच देश ही विजेता बन सके हैं। भारत इस टूर्नामेंट को जीतना वाला छठवां देश बन गया है। इंडोनेशिया थॉमस कप की सबसे सफल टीम है। अब तक 14 बार खिताब पर कब्जा जमाया है। 1982 से इस टूर्नामेंट में भाग ले रही चीनी टीम ने 10 और मलेशिया ने 5 खिताब जीते हैं। जापान और डेनमार्क दोनों के पास एक-एक खिताब है। थॉमस कप हमेशा एशियाई देशों ने जीता। 2016 में डेनमार्क यह खिताब जीतने वाली पहली गैर एशियाई टीम थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें