राजकोट : पीएम के भव्य कार्यक्रम में नरेश पटेल नदारद, पाटीदारों द्वारा अस्पताल बनाने के बावजूद मोभी की भाजपा से दूरी

बीजेपी से दूर रहे नरेश पटेल

अस्पताल के निर्माता डॉ. भरत बोगरा ने नरेश पटेल को आमंत्रित किया , न्योते के बावजूद नदारद खोडलधाम नरेश

निमंत्रण पत्र में नाम लिखने को लेकर हुआ था विवाद
नरेश पटेल ने अपने कार्यक्रम में कोई समझौता नहीं किया और न ही शिरकत की, यह इस बात का संकेत है कि नरेश पटेल भाजपा से दूरी बनाए रखे है जसदान के आटकोट में पाटीदार समाज ने 40 करोड़ रुपये की लागत से 200 बेड की के.डी.अस्पताल का निर्माण किया गया है। जिसका उद्घाटन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। इस अस्पताल के उद्घाटन में उमियाधाम और खोडलधाम के अग्रणीओं को आमंत्रित किया गया था। हालांकि लेउवा पटेल समाज के मोभी नरेश पटेल ने भाजपा से दूरी बना ली और कार्यक्रम से नदारद रहे। नरेश पटेल किस पार्टी में शामिल होंगे, इसकी घोषणा करने में उन्होंने देरी की है। अगर भाजपा से लगाव है और नरेश पटेल अनुपस्थित हैं, भले ही प्रधानमंत्री खुद अपने समाज के भव्य समारोह में आए हों, तो यह बहुत संकेत है कि उन्होंने भाजपा से दूरी बनाए रखी है।
अस्पताल के निर्माता और गुजरात भाजपा उपाध्यक्ष डॉ. भरत बोगरा ने नरेश पटेल को आमंत्रित किया। लेकिन नरेश पटेल के दूसरे कार्यक्रम में व्यस्त होने से पहले ही उन्होंने कहा, मैं नहीं आ सकता। हालांकि, सोशल मीडिया पर उस समय विवाद खड़ा हो गया जब निमंत्रण के समय नरेश पटेल के नामित व्यक्ति को आमंत्रित नहीं किया गया था। नरेश पटेल का नाम निमंत्रण पत्र में भी नहीं है और केवल खोदलधाम का लोगो था।
नरेश पटेल ने कहा कि वह 31 मई को अपने फैसले की घोषणा करेंगे कि उन्हें राजनीति में शामिल होना है या नहीं। नरेश पटेल इस समय कांग्रेस आलाकमान के साथ चर्चा में हैं। लेकिन नरेश पटेल ने बीजेपी आलाकमान के साथ डिनर डिप्लोमेसी भी की है। लेकिन अब पटेल समुदाय सहित लोगों के बीच 
यह चर्चा का विषय बन गया है कि पाटीदार समुदाय के भव्य समारोह से केवल प्रधानमंत्री और पाटीदार समुदाय के संरक्षक माने जाने वाले नरेश पटेल की उपस्थिति ही नदारद थी।
नरेश पटेल की तमाम व्यस्तताओं के बावजूद देश के प्रधानमंत्री और बड़ी संख्या में लोग जुटे, नरेश पटेल ने अपने कार्यक्रम में कोई समझौता नहीं किया और न ही शिरकत की। यह इस बात का संकेत है कि नरेश पटेल भाजपा से दूर रहे हैं। साथ ही कांग्रेस आलाकमान से भी बातचीत चल रही है। 31 मई को उनके भाजपा में शामिल होने की कोई तस्वीर नहीं है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें