कोरोना से ठीक हुये लोग रहें पटाखों के प्रदूषण से दूर, विशेषज्ञों ने चेताया

प्रतिकात्मक तस्वीर

प्रदूषण के कारण हो सकती है फेफड़ों पर गंभीर असर

पिछले डेढ़ साल से कोरोना से परेशान होने के बाद देश और राज्य भर में कोरोना के केस कम हुये है। कोरोना के केस कम होने के कारण अब दो सालों के बाद धूमधाम से दिवाली मना पाएंगे। हालांकि कोरोना से ठीक हो जाने के बाद भी लोगों को काफी सावधानी रखनी होगी। विशेषज्ञों द्वारा कोरोना से ठीक हुये लोगों को दिवाली में पटाखों के फोड़ने से होने वाले प्रदूषण से दूर रहने की सलाह दी गई है। अन्यथा उन लोगों को सांस लेने में दिक्कत का सामना भी करना पड सकता है।
विशेषज्ञों के अनुसार, हवा में पटाखों को फोड़ने से होने वाले प्रदूषण की असर फेफड़ों में होती है। कोरोना के दौरान भी संक्रमित हुये मरीजों को फेफड़ों पर गंभीर असर हुई थी, जिसके चलते उन्हें कई तरह की तकलीफ़ों का सामना करना पड़ा था। ऐसे में पटाखों से होने वाले प्रदूषण उनके लिए नुकसानकर्ता हो सकता है। बता दे की पटाखें फोड़ने से हवा में कार्बन मोनोक्साइड जैसे गेस का प्रमाण बढ़ता है, जिसके शरीर में जाने से मरीजों को बेचेनी हो सकती है। 
इसके अलावा विशेषज्ञों द्वारा दिवाली और उसके बाद लोगों में शर्दी और खांसी के केसों में इजाफा देखने मिल सकता है। ऐसे में कोरोना के केसों में इजाफा देखने मिल सकता है। ऐसे में सभी को सावधानी रखने की भी अपील की गई है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें