अब इसे बंदे की इमानदारी कहें या बेवकूफी, ‘सैक्स’ के लिये पुलिस से मांगा ई-पास!

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : Pixabay.com)

कोरोना महामारी से निपटने के लिये देश के विभिन्न राज्य सरकारों ने नागरिकों की सार्वजनिक रूप से आवाजाही पर अलग-अलग प्रकार के नियंत्रण लगा रखे हैं। कहीं पूर्ण लॉकडाउन है तो कहीं आंशिक। इन तालाबंदी के हालातों में भी प्रशासन ने नियम बना रखे हैं कि यदि किसी नागरिक को कोई आपात स्थिति में कहीं जाना मजबूरी हो जाए तो वह प्रशासन को सूचित कर ई-पास की मांग कर सकता है। ऐसे ई-पास की बदौलत व्यक्ति अपना इमरजंसी काम निपटा सकता है। 

प्रतिकात्मक तस्वीर

इसी नियम के आधार पर कई लोग अपने जायज कामों को कर सकते हैं। लेकिन कुछेक लोग ऐसे भी होते हैं कि घर से बाहर घूमने और आवारागर्दी करने के लिये बहाने बनाते हैं। लेकिन केरल के कुन्नूर से अजीब मामला सामने आया है। कन्नापुरम नामक व्यक्ति ने कुन्नूर पुलिस के समक्ष ई-पास के लिये आवेदन करते हुए मांग रखी कि उसे अपने पार्टनर से सैक्स करने घर से बाहर निकल कर एक वि‌शिष्ट जगह पर जाना है। अब इसे इस व्यक्ति की इमानदारी कहें या बेवकूफी, यह तो नहीं कहा जा सकता। 

लेकिन केराला कौमुद्दी की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने इस मामले की सूचना स्थानीय सहायक पुलिस आयुक्त को दी। मामले की सूचना वालापट्टम पुलिस थाने को दी गई और व्यक्ति को तलब किया गया। पूछताछ के दौरान कन्नापुरम ने पुलिस को बताया कि उसके आवेदन में ‘सैक्स’ शब्द गलती से लिख दिया गया था, दरअसल वह स्पेलिंग मिस्टेक थी और वह अंग्रेजी में ‘सिक्स ऑ क्लॉक’ लिखना चाहता था लेकिन ऑटो करेक्ट होकर यह त्रुटि रह गई और उसका ध्यान नहीं रहा। इसके भूल के लिये उसने पुलिस से क्षमा मांगी। पुलिस ने भी उसकी क्षमायाचना स्वीकार करते हुए उसे माफ कर दिया। 

ये कोई पहला मामला नहीं है, जब ई-पास के लिये ऐसा कारण रखा गया हो। विगत दिनों बिहार के पुर्णिया में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया था।  जहां एक व्यक्ति ने अपने किल-मुंहासों के इलाज के लिये पुलिस से लॉकडाउन के दौरान इ-पास जारी करने की याचना की थी। पुलिस ने उसके जवाब में कहा था कि कोरोना काल में आपके किल-मुहांसों का इलाज कुछ टाल देंगे तो दिक्कत नहीं है। खैर, ऐसी घटनाएं वास्तविक होने के साथ-साथ सोशल मीडिया पर मजाक का विषय अवश्य बन जाती हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें