अदानी परिवार में से किसी को राजनीति में आने में रुचि नहीं है!

गौतम अदानी

गौतम अदानी को राज्यसभा में भेजा जाएगा ऐसी खबरों के चलने के बाद अदानी समूह ने एक बयान जारी करके स्पष्ट किया है कि अदानी परिवार में से किसी को भी राजनीति में आने में रुचि नहीं है। यह आधिकारिक बयान शनिवार को देर रात जारी किया गया।
बयान में कहा गया है कि राज्यसभा की खाली पड़ी सीटों के लिए चुनाव की घोषणा होते ही अनेक मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसा दावा किया गया था कि अदानी ग्रुप के मालिक गौतम अदानी या उनकी पत्नी प्रीति अदानी को किसी राजनीतिक दल की ओर से राज्यसभा में भेजा जाएगा। इसके बाद अदानी समूह को यह स्पष्टीकरण जारी करना पड़ा।
सोशल मीडिया में जारी बयान में कहा गया कि अदानी समूह उपरोक्त समाचार से वाकिफ है। यह समाचार गलत है। जब भी राज्यसभा के लिए कोई भी जगह खाली होती है तब ऐसे समाचार आने लगते हैं। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोग अपने फायदे के लिए हमारे नाम अपनी रिपोर्ट में घसीटते हैं। गौतम अदानी, प्रीति अदानी और अदानी परिवार के किसी भी सदस्य को राजनीतिक कैरियर या किसी भी राजनीतिक दल से जुड़ने में कोई रुचि नहीं है।
आपको बता दें कि पिछले दिनों कुछ मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि जून महीने में आंध्र प्रदेश में राज्यसभा की 4 सीटें खाली होने पर वहां लॉबिंग तेज हो गया है। 21 जून को चार सांसद निवृत हो रहे हैं। रिपोर्ट में ऐसा दावा किया गया था कि यदि अदानी समूह की ओर से आग्रह किया जाता है तो आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी, अदानी को राज्यसभा में भेजने पर विचार कर सकते हैं। आगामी 10 जून के दिन 15 राज्यों की 57 राज्य सभा सीटों के लिए चुनाव होना है। यह सभी सीटों के लिए सांसदों का कार्यकाल जून से अगस्त के बीच पूरा होता है। भारतीय जनता पार्टी की नजर राज्यसभा में भी बहुमत हासिल करने की है। आपको बता दें कि 245 सीटों में से भारतीय जनता पार्टी के पास 101 सीटें हैं। चुनाव के बाद पार्टी की सीटें बढ़ जाएंगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें